चूना खाने के फायदे और नुकसान – Limestone Benefits and side effects in Hindi

चूना खाने के फायदे और नुकसान – Limestone Benefits and side effects in Hindi

चूना खाने के फायदे और नुकसान आपके स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित कर सकते हैं। कैल्शियम की कमी बहुत सी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को जन्‍म दे सकती है। इस कमी को दूर करने के लिए चूना खाने के फायदे जाने जाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार चूना का सेवन करने से कई प्रकार की बीमारियों का उपचार किया जा सकता है। चूना खाने के फायदे वयस्‍कों ही नहीं बल्कि बच्चों के लिए भी फायदेमंद होते हैं। चूना का उपयोग बच्‍चों की अच्‍छी ऊंचाई देने पुरुषों में नपुंसकता का इलाज करने के लिए प्राचीन समय से किया जा रहा है। इस लेख में आप चूना खाने के फायदे और नुकसान के बारे में जानेगें।

1. चूना क्‍या है – What is Limestone in Hindi
2. चूना में क्‍या पाया जाता है – Limestone Nutrition Value in Hindi
3. चूना खाने का तरीका – Chuna Khane Ka Tarika in Hindi
4. चूना खाने का सही समय – Chuna khane ka sahi samay in Hindi
5. चूना की तासीर – Chuna ki taseer in Hindi
6. चूना के फायदे इन हिंदी – Chuna Benefits in Hindi
7. चूना खाने के नुकसान – Chuna kahane ke Nuksan in Hindi

Table of Contents

चूना क्‍या है – What is Limestone in Hindi

चूना कैल्शियमयुक्‍त अकार्बनिक पदार्थ है। अक्‍सर आपने देखा होगा कि तम्‍बाकू उत्‍पादों में चूने का उपयोग किया जाता है। हालांकि तम्‍बाकू उत्‍पाद हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक होते हैं। लेकिन यदि सूरक्षित रूप से चूने का सेवन किया जाए तो यह हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद होता है। चूना पत्‍थर खनिज कैल्‍साइट (calcite) से बना एक आम पत्‍थर है। कैल्‍साइट मुख्‍य रूप से  कोरल और क्‍लैम्‍स (corals and clams) जैसे जीवों की कोशिकाओं से आता है। जब ये जीव समुद्र में मर जाते हैं तो इनकी कोशिकाएं मलबे के रूप में जमा हो जाती हैं जिनसे चूना पत्‍थर बनता है। लेकिन इन मलबों को चूना पत्‍थर बनने में हजारों वर्षों का समय लगता है।

चूना पत्‍थर इमारतों के निर्माण के लिए लोकप्रिय सामग्री है जहां इन चूना पत्‍थरों का उपयोग किया जाता है। लेकिन चूना पत्‍थर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी फायदेमंद होता है। इसके अतिरिक्‍त यदि इसके फायदे देखे जाएं तो इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। इस लिए हम आपको चूना खाने के फायदे और नुकसान दोनों से अवगत करा रहे हैं। आइए इन्‍हें जानें।

चूना में क्‍या पाया जाता है – Limestone Nutrition Value in Hindi

चूना में स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने वाले पर्याप्‍त मात्रा में खनिज पदार्थ और पोषक पाया जाता है। इनकी उपस्थिति के कारण यह हमें विभिन्‍न प्रकार के लाभ दिलाता है। चूना में कैल्शियम कार्बोनेट और कैल्शियम मैग्‍नीशियम कार्बोनेट का मिश्रण होता है। कैल्शियम हमारी हड्डीयों का प्रमुख घटक है जो हमारी हड्डीयों को मजबूत बनाता है। कैल्शियम की कमी को दूर करने के लिए चूना के फायदे होते हैं जिसके लिए इसे प्रत्‍यक्ष रूप से सेवन किया जा सकता है।

चूना खाने का तरीका – Chuna Khane Ka Tarika in Hindi

चूना खाने का कोई निश्चित तरीका नहीं है। आप अपनी सुविधा के अनुसार चूने को कई प्रकार से सेवन कर सकते हैं। यदि आप अपने स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने के लिए चूने का सेवन करना चाहते हैं तो सावधानी से इसका उपयोग करें। स्‍वास्‍थ्‍य सलाहकारों के अनुसार चूने का सेवन गेहूं के एक दाने के आकार के बराबर ही करना चाहिए। इससे अधिक मात्रा का सेवन आपके स्‍वास्‍थ्‍य में नकारात्‍मक प्रभाव ड़ाल सकता है। आप बहुत ही कम मात्रा में चूने को निम्‍न खाद्य पदार्थों के साथ मिलाकर सेवन कर सकते हैं।

  • दही
  • पानी
  • सौंफ के बीज
  • पान
  • इलायची और गुलाब की पंखुड़ियों
  • दलहन
  • संतरे का रस, अनार का रस और गन्‍ने का रस

लेकिन यदि इसे सुबह खाली पेट खाया जाए तो यह और भी फायदेमंद होता है। लेकिन आपको सलाह दी जाती है कि यदि गेहूं के आकार से अधिक चूने का सेवन किया जाता है तो यह हानिकारक हो सकता है।

(इसे भी पढ़ें – शरीर का तापमान बढ़ाने के उपाय)

चूना खाने का सही समय – Chuna khane ka sahi samay in Hindi

चूना खाने का सही समय निर्धारित नहीं किया गया है। जैसा कि आप जानते हैं कि चूना सामान्‍य रूप से खाने योग्‍य पदार्थ नहीं है। इसका केवल औषधीय उपयोग के लिए सेवन किया जाता है। हालांकि आप औषधीय उपयोग के लिए बहुत ही कम मात्रा में चूने का सेवन सुबह के समय खाली पेट कर सकते हैं। यह ध्‍यान रखें कि यह कोई निर्धारित समय नहीं है।

चूना की तासीर – Chuna ki taseer in Hindi

चूना की तासीर गर्म होती है जिसके कारण यह हमारे लिए कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ का स्रोत माना जाता है। यदि आप समझ रहे हैं कि चूने के फायदे बताकर हम आपको पान या अन्‍य तम्‍बाकू उत्‍पादों का सेवन करना फायदेमंद है तो आप गलत समझ रहे हैं। ऐसा नहीं है कि चूना के फायदे होने के कारण तम्‍बाकू उत्‍पाद या पान भी आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छे होते हैं। हमारा उद्देश्‍य केवल आपको चूना खाने के फायदे और नुकसान से अवगत कराना हैं।

चूना के फायदे इन हिंदी – Chuna Benefits in Hindi

हम खाने वाले चूने की बात कर रहे हैं जिसे आप पान के साथ खाते हैं। खाने वाला चूना का उपयोग हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद होता है। इसका उपयोग कर शारीरिक और मानसिक समस्‍याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। आइए जाने खाने वाले चूने के फायदे क्‍या हैं और इन्‍हें कैसे प्राप्‍त किया जा सकता है।

चूना खाने के फायदे पीलिया के उपचार में – Chuna Khane Ke Fayde Jaundice Ke Liye in Hindi

चूना खाने के फायदे पीलिया के उपचार में मदद करते हैं। जांडिस (jaundice) एक ऐसी बीमारी है जो हमारे यकृत खराब होने का कारण बनती है। जिसके कारण हमारे रक्‍त में अशुद्धता आने लगती है। पीलिया होने का सबसे प्रभावी लक्षण आंखों में देखा जा सकता है। इस बीमारी में आंखों में पीलापन आ जाता है और पेशाब का रंग पीला हो जाता है। पीलिया की समस्‍या का उपचार लिए एंटीबायोटिक दवाओं के सेवन की सलाह दी जाती है। लेकिन आप अपने यकृत को स्‍वस्‍थ्‍य और मजबूत करने के लिए आप खाने वाले चूने का उपयोग कर सकते हैं।

पीलिया के उपचार के लिए आप गन्‍ने के जूस के साथ चूने का सेवन कर सकते हैं। नियमित रूप से गन्‍ने के रस के साथ चूने का सेवन करने से यकृत की सामान्‍य कार्य क्षमता में सुधार किया जा सकता है। जिससे चूना के फायदे रोगी को पीलिया से छुटकारा प्राप्‍त कर सकता है।

चूना के फायदे नपुंसकता का इलाज करे – Chuna Benefits For Impotence in Hindi

चूना के फायदे नपुंसकता या यौन कमजोरी के इलाज में भी होते हैं। कैल्शियम कार्बोनेट या चूना पत्‍थर का सेवन यौन स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी फायदेमंद होता है। चूना का उपयोग कर पुरुष नपुंसकता को दूर किया जा सकता है। पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्‍या बढ़ाने के लिए नियमित रूप से गन्‍ने के रस के साथ चूना का सेवन किया जाना चाहिए। लेकिन ध्‍यान दें कि चूने की मात्रा बहुत ही कम होनी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि नियमित रूप से यदि 2 वर्षों तक इसका सेवन किया जाए तो यह पुरुषों की नपुंसकता पूरी तरह से ठीक कर सकता है।

इसके अलावा महिलाओं में अंडाशय यदि अंडे नहीं बना पाते हैं गर्भावस्‍था की संभावना कम हो जाती है। ऐसी स्थिति में भी गन्‍ने के रस के साथ चूने का सेवन किया जाना चाहिए। यह महिलाओं की नपुंसकता का भी प्रभावी रूप से उपचार किया जा सकता है।

इस प्रकार की समस्‍याओं से बचने के लिए आप भी चूना खाने के फायदे प्राप्‍त कर सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – यौनशक्ति बढ़ाने के उपाय)

चूना के लाभ गर्भावस्‍था के लिए – Chuna Benefits For Pregnancy in Hindi

चूना के लाभ गर्भावस्‍था की समस्‍याओं को दूर कर सकते हैं। कैल्श्यिम की अच्‍छी मात्रा होने के साथ ही चूना कैल्शियम का सबसे प्रमुख स्रोत माना जाता है। चूने की बहुत कम मात्रा या किसी तरल पदार्थ के साथ मिलाकर सेवन करना बहुत ही फायदेमंद होता है। यह गर्भवती महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य में सकारात्‍मक प्रभाव के लिए जाना जाता है। एक गर्भवती महिला को 9 माह तक 1 कप अनार के जूस के साथ एक चुटकी चूना पाउडर का सेवन करना चाहिए। चूना में मौजूद कैल्शियम गर्भ में भ्रूण की हड्डी को मजबूत कर शक्ति बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा कैल्शियम की पर्याप्‍त मात्रा डिलेवरी के समय होने वाले दर्द को भी कम करता है। यह होने वाले बच्‍चे के मस्तिष्‍क विकास को भी बढ़ावा दे सकता है। गर्भवती महिलाओं के लिए चूना का कम मात्रा में सेवन फायदेमंद उपयोग किया जा सकता है।

(इसे भी पढ़ें – सफेद मूसली के फायदे महिलाओं के लिए)

खाने वाला चूना बच्‍चों के लिए अच्‍छा है – Khane Wala Chuna Kids Ke Liye Achha Hai in Hindi

खाने वाला चूना बच्‍चों की दिमागी क्षमता को बढ़ाने में सहायक होता है। शुरुआत से ही बच्‍चों के मानसिक विकास पर ध्‍यान दिया जाना चाहिए। चूना पत्‍थर का नियमित उपभोग कराकर बच्‍चों की बुद्धि को तेज किया जा सकता है। चूना बच्‍चों के आईक्‍यू को भी बढ़ाता है। इस तरह से आप अपने बच्‍चों की पढ़ने, समझने और सीखने की क्षमता को बढ़ा सकते हैं। यह याद रखने की क्षमता में भी वृद्धि कर सकता है। कुल मिलाकर यदि बच्‍चों को नियमित रूप से चूने की बहुत ही कम मात्रा का सेवन कराया जाए तो यह उनके समग्र मानसिक विकास को बढ़ावा देता है। इन सभी प्रकार के लाभ प्राप्‍त करने के लिए 1 चुटकी चूना पाउडर को नियमित रूप से 1 कप दही के साथ सेवन किया जाना चाहिए।

चूना खाने के फायदे बच्‍चों को मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ्‍य रखने और दिमाग को तेज बनाने में मदद करता है।

गांठ में चूना के फायदे – Ganth (Lump) Me Chuna Ke Fayde in Hindi

आज के इस दौर में कैंसर एक लाइलाज बीमारी बन चुकी है। महिलाओं के शरीर में गांठ आना कैंसर का लक्षण हो सकता है। लेकिन इससे कैंसर की पुष्टि नहीं होती है। यह केवल एक संकेत हो सकती है। महिलाओं के शरीर में जितनी भी गांठ होती हैं उनमें से केवल 2 या 3 प्रकार की गांठ ही कैंसर का कारण बनती हैं। लेकिन फिर भी महिलाओं को इस प्रकार की गांठों से सावधान रहना चाहिए। जब भी महिलाओं को अपने शरीर में कहीं भी अचानक से गांठ दिखाई दे तो उन्‍हें सतर्क रहना चाहिए। क्‍योंकि यह गांठ या रसोली है जो कुछ हद तक कैंसर का कारण हो सकती है।

इस गांठ या रसोली का उपचार महिलाएं चूने से कर सकती हैं। चूने का उपयोग करने के लिए महिलाएं चूने को किसी पेय पदार्थ या खाद्य आहार के साथ कर सकती हैं। चूने को सीधे ही खाने का प्रयास न करें। अन्‍य प्रकार से चूने का सेवन करने के लिए दही, लस्‍सी या आपके द्वारा बनाई गई सब्जियों आदि के साथ चूने का सेवन किया जा सकता है।

बस इस बात का विशेष ध्‍यान रखें कि चूने को अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए।

(इसे भी पढ़ें – गले का कैंसर, कारण लक्षण और बचाव)

चूना और शहद करे मुंहासे का इलाज – Chuna Aur Shahad Ke Fayde Muhase Ke Liye in Hindi

चूना और शहद सौंदर्य लाभ के लिए उपयोग किया जा सकता है। सभी लोग मुंहासों से छुटकारा पाना चाहते हैं। मुंहासे नवयुवक और युवतीयों की सबसे बड़ी समस्‍या है। मुंहासे होने का सबसे प्रमुख कारण त्‍वचा छिद्रों की गंदगी, बैक्‍टीरिया और गलत खान पान की आदते हैं। इसके अलावा व्‍यक्तिगत स्‍वच्‍छता भी प्रमुख कारण होता है। मुंहासों का उपचार करने के लिए अधिकतर डॉक्‍टरों द्वारा एंटीबायोटिक और एंटी माइक्रो बाय (Anti-Microbe) दवाओं का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

लेकिन अगर इनसे आपको फायदा न मिले तो आप चूना का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप शहद के साथ चूना पाउडर को मिलाएं और मुंहासों के ऊपर लगाएं। जब यह मिश्रण सूख जाए तो फिर आप अपने चेहरे को गर्म पानी से धो लें। ऐसा आपको नियमित रूप से प्रतिदिन करना है जब तक की आपके मुंहासे पूरी तरह से चले नहीं जाते हैं। इस तरह से मुंहासों के लिए चूना बहुत ही प्रभावी विकलप हो सकता है।

चूने के उपयोग हड्डी रोगों के लिए – Chune Ke Upyog Haddi Rog Ke Liye in Hindi

चूने के उपयोग हड्डी रोगों की संभावना को कम कर सकते हैं। साइटिका और ग्रीवा (Cytica and cervical) दोनों ही हड्डी और रीढ़ की हड्डी से जुड़ी समस्‍याएं हैं। यह रोग पुरुष और महिलाओं किसी को भी हो सकता है। इस प्रकार की बीमारी को दूर करने के लिए गन्‍ने के रस के साथ केवल 1 चुटकी  खाने वाले चूने का सेवन किया जाना चाहिए। इसके अलावा यदि गन्‍ने का रस उपलब्‍ध न हो तो आप इसे अपने किसी भी व्‍यंजनों जैसे दालों, सब्जियों या दही आदि के साथ भी उपभोग कर सकते हैं। यह हड्डियों से संबंधित सभी प्रकार की समस्‍याओं को दूर करने में मदद कर सकता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि चूना में कैल्शियम बहुत अच्छी मात्रा में होता है जो कि हड्डीयों के गठन का प्रमुख घटक होता है।

चूना का प्रयोग प्रसव की परेशानी रोके – Chune ka prayog Delivery problem kam kare in Hindi

चूना का प्रयोग प्रसव के दौरान होने वाली समस्‍याओं को रोकने का अच्‍छा तरीका हो सकता है। गर्भवती महिला अनार के रस के साथ चूना का सेवन कर सकती हैं। यह महिला और बच्‍चे दोनों के स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मदद करता है। चूना का नियमित सेवन करने से महिला को कैल्शियम की कमी नहीं होती है इसके अलावा यह प्रसव पीड़ा को भी कम कर सकता है। चूना भ्रूण में बच्‍चे के मस्तिष्‍क का उचित विकास करने में मदद करता है। जिससे वे तेज दिमाग और बुद्धिमान बनते हैं। इस तरह से यदि चूने का सही मात्रा में सेवन किया जाए तो यह मां और बच्‍चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है।

चूने के गुण महिलाओं की समस्‍या को कम करे – Chune Ke Gun Mahilao Ki Samasya Dur Kare in Hindi

चूने के गुण मासिक धर्म से संबंधित महिलाओं की समस्‍याओं को दूर करने में बहुत ही प्रभावकारी होते हैं। यह महिला रजोनिवृत्ति, गर्भावस्‍था और मासिक धर्म विकास से संबंधित सभी समस्‍याओं का इलाज कर सकता है। 50 वर्ष से अधिक उम्र वाली महिलाएं जो रजोनिवृत्ति से ग्रसित होती हैं। उन्‍हें अधिक मात्रा में कैल्शियम की आवश्‍यकता होती है। इसलिए महिलाओं में इस प्रकार की समस्‍या का उपचार करने के लिए चूना बहुत ही फायदेमंद हो सकता है।

(इसे भी पढ़ें – योनि में खुजली के घरेलू उपाय)

चूना खाने के लाभ हड्डी फ्रैक्‍चर के लिए – Chuna Benefits For Bones Fracture in Hindi

हड्डियों के फ्रैक्‍चर होने पर शरीर को अधिक मात्रा में कैल्शियम की आवश्‍यकता होती है। यह भी माना जाता है कि हमारी हड्डियां कैल्शियम की कमी के कारण जल्‍दी ही कमजोर हो सकती हैं। इसलिए नियमित रूप से चूने का सेवन करने पर यह हमे पर्याप्‍त मात्रा में कैल्शियम प्रदान करता है। हड्डी फ्रैक्‍चर व्‍यक्ति को ताजे फलों के साथ चूने की अल्‍प मात्रा का नियमित सेवन करना चाहिए। यह उनके फ्रैक्‍चर को जल्‍दी ठीक करने में मदद करता है।

इस तरह से चूना के फायदे आपकी हड्डीयों को मजबूत बनाने में सहायक हो सकते हैं।

चूना से आयुर्वेदिक इलाज दांत दर्द का – Chuna Benefits For Toothache in Hindi

चूना का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्‍सा में भी किया जाता है। दांतों से संबंधित सभी प्रकार की समस्‍या का समाधान चूना कर सकता है। इसके अलावा यह दांतों को भी मजबूत करता है क्‍योंकि हमारे दांतों का प्रमुख घटक कैल्शियम है। यदि कोई व्‍यक्ति दांत दर्द से परेशान हैं तो उसे किसी खाद्य पदार्थ या पेय पदार्थ में चूने का सेवन करना चाहिए। इन सभी बजहों के कारण चूना के फायदे दांतों की समस्‍या को कम करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा दांत दर्द रोगी पान के साथ भी चूने का सेवन कर सकता है।

चूने से आयुर्वेदिक इलाज एनीमिया का – Chuna for Anemia in Hindi

खून की कमी या एनीमिया जैसी समस्‍याओं का चूने से आ‍युर्वेदिक इलाज किया जा सकता है। जिन लोगों के शरीर में खून की कमी होती है उन्‍हें नियमित रूप से अनार के जूस के साथ चूना के पाउडर का सेवन किया जाना चाहिए। यदि अनार का जूस उपलब्‍ध नहीं है तब भी पानी के साथ चूने की थोड़ी सी मात्रा को घोलकर पिया जा सकता है। यह शरीर में आयरन के अवशोषण को बढ़ाता है।

जिससे चूना के फायदे शरीर में रक्‍त उत्‍पादन को बढ़ाने में मदद करते हैंं।

बुझे चूना के फायदे शरीर की बदबू दूर करे – Chune ke fayde sharir ki badbu door kare in Hindi

आप अपने शरीर की बदबू को दूर करने के लिए बुझे चूना के फायदे प्राप्‍त कर सकते हैं। शरीर की गंध न केवल आपके लिए अप्रिय होती है बल्कि आपके आस-पास के लोगों को भी प्रभावित कर सकती है। शरीर से आने वाली गंध अक्‍सर आपको शर्मिंदगी का अनुभव कराती है। शरीर की बदबू दूर करने के लिए आप बुझे हुए चूने के पेस्‍ट को प्रभावित जगह पर लगाएं और कुछ देर के बार इसे पानी से धो लें।

ऐसा करने से चूना के फायदे आपको शरीर की बदबू से छुटकारा दिला सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – पसीने की बदबू दूर करने के तरीके)

चूना से फोड़ों का इलाज – Chuna benefits for boils in Hindi

आप चूना से त्‍वचा में होने वाले फोड़ों का उपचार कर सकते हैं। क्‍योंकि चूना में ऐसे घटक होते हैं जो फोड़ों में मौजूद बैक्‍टीरिया के प्रभाव को कम कर सकते हैं। आप चूना के उपयोग को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए इसमें हल्‍दी पाउडर को भी शामिल कर सकते हैं। हल्‍दी के एंटीऑक्‍सीडेंट फोड़े को जल्‍दी से ठीक करने में सहायक होते हैं।

इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में घाव हो जाने पर खून को बंद करने के लिए भी चूने का इस्‍तेमाल किया जाता है।

चूने का फायदा सूजन कम करे – Chune ka Fayda sujan kam kare in Hindi

चूने का फायदा सूजन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए जाना जाता है। पारंपरिक रूप से चूने का उपयोग सूजन को कम करने के लिए किया जाता है। बहुत से लोग घरेलू उपचार के रूप में चूने का फायदा सूजन करने के लिए प्राप्‍त करते हैं। किसी प्रकार की चोट लगने पर सूजन को कम करने के लिए आप चूने के साथ शहद या हल्‍दी को मिलकार सूजन प्रभावित क्षेत्र में लेपित करें। आप चाहें तो इस जगह की गर्म सिकाई भी कर सकते हैं। ऐसा करने से आपको बहुत ही जल्‍द सूजन से राहत मिल सकती है।

चूना खाने के नुकसान – Chuna kahane ke Nuksan in Hindi

चूना खाने के नुकसान वैसे तो नहीं होते हैं लेकिन ये नुकसान इसके सेवन करने की मात्रा पर निर्भर करते हैं। हालांकि कुछ लोगों को चूना खाने से गंभीर नुकसान भी हो सकते हैं।

  • हमेशा चूने की बहुत ही कम मात्रा का सेवन करना चाहिए। अधिक मात्रा में सेवन करने पर यह शरीर के आंतरिक अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • जो लोग किड़नी स्‍टोन जैसी समस्‍या से ग्रसित हैं उनके लिए चूने का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है। क्‍योंकि यह उनके पेट में पथरी के गठन को बढ़ा सकता है।
  • कुछ लोगों को चूना खाने से गाल कटने, सूजन आने जैसी समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है।

 

यदि आप और अधिक स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी जानकारी प्राप्‍त करना चाहते हैं तो हमारे Facebook Page को लाईक कर सकते हैं।

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required