लड़की का गर्भधारण करने के लिए क्‍या करना चाहिए – How To Conceive A Girl – 9 Tips To Conceive A Baby Girl in Hindi

How To Conceive A Girl – 9 Tips To Conceive A Baby Girl in Hindi

Tips To Conceive A Baby Girl in Hindi बेबी गर्ल प्राप्‍त करने के लिए हमें क्‍या करना चाहिए। जब भी आप किसी छोटी बच्‍ची को देखते हैं तो आपका मन भी ऐसी ही नन्‍ही परी प्राप्‍त करने का करता है। क्‍या आप यह भी जानना चाहते हैं बेवी गर्ल प्राप्‍त करने के लिए आपको क्‍या करना चाहिए। शायद आप भी सोच रहे हैं कि एक लड़की को कैसे गर्भ धारण किया जा सकता है। ना जाने ऐसे कितने माता पिता है जों अपनी इच्‍छा के अनुसार अपने बच्‍चे को जन्‍म देने की सोचते हैं। लेकिन यह जान लें लिंग के आधार पर अपनी इच्‍छा से बच्‍चे को जन्‍म देना संभव नहीं है।

हम और विज्ञान भी इस बात का समर्थन नहीं करता है कोई ऐसे उपचार हैं जो इच्‍छा अनुसार लड़के या लड़की का जन्‍म कराने में मदद करते हैं। फिर भी कुछ जानकारों का मानना है कि कुछ ऐसे प्रयास हैं जिन्‍हें अपनाकर आप एक नन्‍हीं परी या लड़की को जन्‍म दे सकते हैं। इस लेख में आप जानेगें बेबी गर्ल प्राप्‍त करने के लिए हमें क्‍या करना चाहिए।

लड़की को गर्भधारण कैसे करें – How To Get Pregnant with a Girl in Hindi

लड़की को गर्भ में धारण करने के तरीके जानने से पहले आपको कुछ सामान्‍य किंतु महत्‍वपूर्ण बातों को जानना चाहिए। नर प्रजनन कोशिकाएं या शुक्राणु बच्‍चे के लिंग से संबंधित दो गुणसूत्रों में से एक होते हैं। यदि शुक्राणु का गुण सूत्र एक्‍स (X) है तो लड़की पैदा होगी और यदि शुक्राणु का गुणसूत्र वाई (Y) है तो लड़का पैदा होता है। इसलिए महिला अंडाणु को निषेचित करने वाला शुक्राणु बच्‍चे के लिंग को निर्धारित करता है। शोधकर्ताओं का मानना है नर और मादा शुक्राणु में कई महत्‍वपूर्ण अंतर होते हैं। अध्‍ययनों के अनुसार मादा शुक्राणु की तुलना में पुरुष शुक्राणु कमजोर, छोटे और तेज होते हैं। इसके अलावा यह भी पाया गया कि मादा शुक्राणु अधिक लचीले होते हैं जो महिला योनि के अंदर अधिक समय तक जीवित रहते हैं।

(इसे भी पढ़ें – हार्ट अटैक से बचने के लिए योग)

पुत्री प्राप्ति के उपाय – Putri Prapti Ke Upay in Hindi

लड़की या गर्ल को गर्भ में धारण करने के लिए कुछ उपाय सुझाव गए हैं। लेकिन यह भी स्‍पष्‍ट है कि लड़की प्राप्ति के उपाय प्रयोग करने से लड़की पैदा होने की संभावना 50 प्रतिशत तक होती है। क्‍योंकि लड़के या लड़की का जन्‍म पुरुष शुक्राणु के गुणसूत्र पर निर्भर करता है। फिर भी आप इन उपायों को अपनाकर पुत्री प्राप्ति की लालसा को पूर्ण कर सकते हैं। आइए जाने लड़की को गर्भ में धारण करने के उपाय क्‍या हैं।

(इसे भी पढ़ें – जाने गर्भ में लड़का होने के लक्षण)

लड़की को जन्‍म देने के लिए शेट्टल्स विधि – Shettles Method For Giving Birth To A Girl in Hindi

यदि आप अपने बच्‍चे को लड़की के रूप में जन्‍म देना चाहते हैं तो इसके लिए आपको शेट्टल्‍स विधि अपनानी चाहिए। शेट्टल्‍स विधि का उपयोग 1960 के दशक के आसपास से उपयोग किया जा रहा है। यह विधि लड़की के जन्‍म की संभावना को 75 प्रतिशत तक बढ़ा सकती है। इस विधि के अनुसार डॉक्‍टर शेटल्‍स का मानना था कि लड़की को जन्‍म देने के लिए सबसे महत्‍वपूर्ण कारक समय है। बच्‍चे का लिंग शुक्राणु गुणसूत्र द्वारा निर्धारित होता है। लड़के के गुणसूत्र वाले शुक्राणु तेजी से तैरते हैं लेकिन लड़की के गुणसूत्र वाले शुक्राणुओं की अपेक्षा कम समय तक जीवित रहते हैं। लड़की शुक्राणु मजबूत और अधिक लचीले होते हैं फिर भी लड़के शुक्राणु की तुलना में धीमी गति से तैरते हैं।

शेट्टल्‍स विधि के अनुसार महिला को ओव्‍यूलेशन के 2 से 4 दिन पहले सेक्‍स करना चाहिए। यदि आप लड़की को जन्‍म देना चाहते हैं। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि जब ओव्‍यूलेशन होगा तब तक केवल लड़की गुणसूत्र वाले शुक्राणु जीवित बचते हैं। पुरुष गुणसूत्र वाले शुक्राणु ओव्‍यूलेशन शुरु होने के पहले ही मर जाएगें। हालांकि डॉक्‍टर शेटल्‍स यह भी सलाह देते हैं कि यदि आप लड़की को जन्‍म देना चाहते हैं तो बार-बार संभोग करने से बचें विशेष रूप से उस दौरान जब योनि बलगम का उत्‍पादन कर रही हो।

(इसे भी पढ़ें – नारियल पानी वजन कम करे)

लड़की गर्भधारण करने के लिए व्‍हेलन विधि – Whelan Method for Conceiving Girl in Hindi

व्‍हेलन विधि भी लड़की को जन्‍म देने में प्रभावी माने जाने वाली एक लोकप्रिय विधि है। इस विधि के जनक एलिजाबेथ पहलन को माना जाता है। उनके अनुसार इस विधि का पालन करना किसी भी महिला में लड़की के जन्‍म की संभावना 57 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। व्‍हेलन का सिद्धांत समय से कुछ अलग है। क्‍योंकि शेट्टल्‍स विधि में लड़की के जन्‍म के लिए ओव्‍यूलेशन के 2 से 4 दिन पहले सेक्‍स करने के लिए कहा जाता है। जबकि व्‍हेलन के सिद्धांत के अनुसार ओव्‍यूलेशन शुरू होने के 4 से 6 दिन पहले सेक्स करने की सलाह दी जाती है।

हालांकि दोनों सिद्धांतों में कुछ विरोधाभास है लेकिन इन दोनों विधियों को लड़की के जन्‍म के लिए प्रभावी माना जाता है। हालांकि किसी भी विधि का उपयोग करने के दौरान आपको यह ध्‍यान रखना चाहिए यह केवल संभावना मात्र है कि आपके गर्भ से लड़की का जन्‍म हो सकता है।

लड़की को जन्‍म देने के लिए सेक्‍स पोजीशन – Sex Position For Girl in Hindi

लड़की को गर्भ में धारण करने के लिए सेक्‍स पोजीशन भी अहम योगदान देती हैं। लोगों का मानना है कि कुछ विशेष यौन स्थितियों में सेक्‍स करने पर लड़की के पैदा होने की संभावना बढ़ जाती है। शोधकर्ताओं का भी मानना है कि सामान्‍य गहराई में शुक्राणुओं का प्रवेश होने पर लड़की के जन्‍म की संभावना अधिक रहती है। इसलिए उन सेक्स पोजीशन का उपयोग करना चाहिए जिसमें सेक्‍स कम गहराई तक हो ताकि शुक्राणु योनि के अंदर गहराई तक प्रवेश न करें। यदि आप भी लड़की को जन्‍म देना चाहते हैं तो इन सेक्‍स पोजीशनों का उपयोग कर सकते हैं। ये सेक्‍स पोजीशन पुत्री प्राप्ति में आपकी मदद कर सकती हैं। आइए जाने लड़की पैदा करने के लिए सर्वश्रेष्‍ठ सेक्‍स पोजिशन क्‍या हैं।

बच्‍ची को जन्‍म देने मिशनरी पोजीशन – Missionary Position To Give Birth To Girl in Hindi

यदि आप एक लड़के को जन्‍म देना चाहते हैं तो सेक्‍स के दौरान गहरा प्रवेश महत्‍वपूर्ण है। लेकिन यदि आप लड़की को जन्‍म देना चाहते हैं तो यह विपरीत है। यदि आप एक लड़की को जन्‍म देने की इच्‍छा रखते हैं तो मिशनरी पोजीशनी आपके लिए अच्‍छी है। यह लड़की के जन्म की संभावना को बढ़ा सकती है। क्‍योंकि इस सेक्‍स पोजीशन में गहराई तक वीर्य नहीं पहुंचता है। नतीजतन यह निर्धारित करता है कि गर्भाशय ग्रीवा के पास शुक्राणु कैसे स्‍खलित होते हैं। लड़के के गुणसूत्र वाले शुक्राणु महिला गुणसूत्र वाले शुक्राणुओं की तुलना अधिक तेजी से तैरते हैं। लेकिन आप गहरी पैठ को रोककर लड़के के शुक्राणु को अंडे तक पहुंचने और निषेचन से रोकने में सफल हो सकते हैं। इस तरह से आप एक लड़की को जन्‍म देने की संभावना को बढ़ा सकते हैं।

लड़की के जन्‍म के लिए नो ऑर्गज्‍म – No Orgasm For Girl’s Birth in Hindi

कुछ लिंग विशेषज्ञों के अनुसार संभोग से बचना या महिलाओं को ऑर्गज्‍म प्राप्‍त करने बचना बच्‍ची के जन्‍म की संभावना को बढ़ा सकता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि महिला ऑर्गज्‍म प्राप्‍त करने पर कुछ ऐसे रसायनों का स्राव होता है जो पुरुष गुणसूत्र वाले शुक्राणुओं को अधिक समय तक जीवित रहने में मदद करते हैं। लेकिन यदि महिला सेक्‍स के दौरान ऑर्गज्‍म प्राप्‍त नहीं करती है तब ऐसी स्थिति में पुरुष गुणसूत्र वाले शुक्राणु अधिक समय तक जीवित नहीं रहते हैं नतीजतन महिला गुणसूत्र वाले शुक्राणुओं से अंडे के निषेचित होने की संभावना बढ़ जाती है।

बेबी गर्ल प्राप्‍त करने अधिक सेक्‍स करें – Do More Sex To Get Baby Girl in Hindi

अपने सेक्‍स जीवन को विशिष्‍ट समय तक सीमित रखने के बजाय आप अधिक से अधिक सेक्‍स करने का प्रयास करें। यदि आप एक लड़की को जन्‍म देना चाहते हैं। जानकारों का मानना है कि अपने प्रमुख गर्भाधान समय तक आने वाले दिनों में आपको अधिक से अधिक सेक्स करना चाहिए। इस तकनीक के अनुसार अधिक सेक्‍स करने से आपके पुरुष साथी में शुक्राणुओं की संख्‍या कम हो जाएगी। इसका मतलब यह है कि निषेचन की दौड़ में शामिल होने के लिए कम से कम तेज-तर्रार पुरुष गुणधर्म वाले शुक्राणु उपलब्‍ध होगें। जिससे लड़की गुणसूत्र वाले शुक्राणुओं द्वारा अंडे को निषेचित करने की संभावना बढ़ जाएगी।

लड़की के जन्‍म के लिए अधिक शाकाहार करें – Eat More Vegetarian Food For The Girl’s Birth in Hindi

एक अध्‍ययन के अनुसार अधिक फल और सब्जियां खाने से लड़की को गर्भ धारण करने की संभावना में सुधार हो सकता है। कुछ लोगों का मानना है कि शाकाहारी भोजन करना आपको लड़की के गभ्रधारण करने में मदद कर सकता है। विशेष रूप से पालक, नट्स और ब्रोकोली जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना। इसके अलावा आप अन्‍य पत्तेदार साग और चावल का भी अधिक सेवन कर सकते हैं। इन खाद्य पदार्थों में कैल्शियम और मैग्‍नीशियम आदि की उच्‍च मात्रा होती है। जो लड़कीयों के जन्‍म की संभावना को बढ़ा सकते हैं।

लड़की को जन्‍म देने के टिप्‍स कम नमक खाएं – Tips For Giving Birth To A Girl Eat Less Salt in Hindi

जानकारों के अनुसार लड़की को जन्‍म देने के टिप्‍स के रूप में महिलाओं को अपने आहार में कम नमक का सेवन करना चाहिए। अपने भोजन में नमक की मात्रा में कटौती कर आप लड़की के जन्‍म की संभावना को बढ़ा सकते हैं। हाल ही के शोधों से पता चलता है कि सोडियम और पोटेशियम की उच्‍च मात्रा पुरुष गुणधर्म वाले शुक्राणुओं के लिए अच्‍छा होता है। इसलिए जब आप किसी लड़की को जन्‍म देने का प्रयास कर रहे हैं तब नमकीन मांस, जैतून, चीज और प्रसंस्‍कृत खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए। इसके अलावा भोजन पकाने के दौरान भी महिलाओं को कम मात्रा में नमक का उपयोग करना चाहिए।

गर्ल बर्थ टिप्‍स फॉर बाथ टाइम – Girl Birth Tips for Bath Time in Hindi

कुछ लोगों का मानना है कि लड़के के शुक्राणु ऊष्‍मा से प्रभावित होते हैं, इसलिए सेक्‍स से पहले स्‍नान करने से नर शुक्राणु के रिलीज होने की गति को कम किया जा सकता है। किसी भी माता पिता का मुख्‍य उद्देश्‍य होता है एक स्‍वस्‍थ बच्‍चे को जन्‍म देना। यदि आप लड़की को जन्‍म देना चाहते हैं तो ऊपर बताए गए उपायों को अपना सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्‍यान रखें कि इन उपायों की प्रमाणिकता नहीं है। और ना ही विज्ञान इन उपायों का समर्थन करता है। क्‍योंकि बच्‍चे का जन्‍म शुक्राणु गुणसूत्र पर निर्भर करता है। हालांकि ऐसे बहुत से तथ्‍य हैं जो इस बात का सबूत दे सकते हैं। लेकिन यह जरूरी नहीं है कि वे आपके लिए भी प्रभावी हों।

और अधिक स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी जानकारी प्राप्‍त करने के लिए आप हमारे Facebook और twitter page को लाइक कर सकते हैं।

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required