लेग राईस एक्सरसाइज करने का तरीका और फायदे – Leg raise exercise steps and benefits in Hindi

Leg raise exercise steps and benefits in Hindi

लेग राईस कुछ बेहतरीन एक्‍सरसाइज या व्‍यायामों में से एक है। आप लेग राईस व्‍यायाम को लेग लिफ्ट व्‍यायाम भी कह सकते हैं। यह व्‍यायाम आपके कूल्‍हों और पैरों को मजबूत करने में मदद करता है। लेकिन लेग राईस एक्‍सरसाइज करने का तरीका आपको पता होना चाहिए। क्‍योंकि यदि कोई भी व्‍यायाम सही तरीके से न किया जाए तो इसके दुष्‍प्रभाव भी हो सकते हैं। लेग राईस एक्‍सरसाइज पैर उठाने का एक तरीका है जो आपकी शारीरिक क्षमता और तीव्रता पर निर्भर करता है। लेग राईस एक्सरसाइज का उपयोग कर आप अपने पैरों की जांघों, कूल्‍हों और कमर को मजबूत कर सकते हैं। लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के फायदे आपकी शारीरिक सहनशक्ति और क्षमता को बढ़ाने में सहायक होते हैं। आज इस आर्टिकल में आप लेग राईस एक्‍सरसाइज करने का तरीका और फायदे संबंधी जानकारी प्राप्‍त करेगें।

लेग राईस एक्सरसाइज क्‍या है – What is Leg raise in Hindi
लेग राईस एक्सरसाइज करने का तरीका – Steps to do Leg raise exercise in Hindi
लेग राईस एक्‍सरसाइज करने की विधि – Raise Exercise Karne Ki Vidhi in Hindi
लेग राईस एक्‍सरसाइज के प्रकार – Other Types Of Leg Raise Exercise in Hindi
डबल लेग राइज एक्सरसाइज – Double Leg Raise Exercise
सिंगल लेग राईस एक्‍सरसाइज – Single leg raise Exercise
मेडिसिन बॉल लेग राईस एक्सरसाइज – Medicine ball leg raise Exercise
हैंगिंग लेग राईस एक्सरसाइज – Hanging leg raise Exercise
साइड लेग राईस एक्सरसाइज – Side Leg Raise Exercise
लेग राईस एक्सरसाइज के फायदे – Benefits Of The Leg Raise Exercise in Hindi
लेग राईस एक्‍सरसाइज के दौरान गलतियां – Common Mistakes of Leg Raise Exercise in Hindi
लेग राईस एक्सरसाइज करते समय यह सावधानियां रखें – Precautions to do Leg Raise Exercise in Hindi
लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के नुकसान – Leg Raise Exercise karne ke Nuksan in Hindi

लेग राईस एक्सरसाइज क्‍या है – What is Leg raise in Hindi

पैरों को ऊपर उठाने वाले व्‍यायाम को लेग राईस एक्सरसाइज कहा जाता है। यह उन प्रमुख व्‍यायामों में से एक है जो पैरों की हड्डियों और जोड़ों को मजबूत करने में मदद करता है। लेग राइस एक्‍सरसाइज पैरों को लिफ्ट करने का एक तरीका है। भारत में बहुत से लोग इस एक्‍सरसाइज को उत्‍तानपादासन (Utpalapanasan) के नाम से भी जानते हैं। हालांकि यह व्‍यायाम करना आपकी शारीरिक क्षमता पर निर्भर करता है। क्‍योंकि लेग राईस एक्‍सरसाइज के कई प्रकार होते हैं। यह आपकी सहनशक्ति पर निर्भर करता है कि आप कौन सी स्थिति में लेग राईस एक्‍सरसाइज कितनी देर तक कर सकते हैं। लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के लाभ पेट की मांसपेशियों और पसलियों को मजबूत करते हैं।

(इसे भी पढ़ें – कर्नापीड़ासन करने के फायदे और नुकसान)

लेग राईस एक्सरसाइज करने का तरीका – Steps to do Leg raise exercise in Hindi

सभी लोग लेग राईस एक्‍सरसाइज के फायदे प्राप्‍त करना चाहते हैं। लेकिन अधिकांश लोगों को सही से लेग राईस एक्‍सरसाइज करने का तरीका पता नहीं होता है। जिसके कारण वे पूर्ण लाभ नहीं ले पाते हैं। साथ ही यदि इस प्रकार के व्‍यायाम को गलत तरीके से किया जाता है तो इसके कुछ गंभीर दुष्‍प्रभाव भी हो सकते हैं। आइए जाने लेग राईस एक्‍सरसाइज करने का तरीका जिसे आप आसानी से कर सकते हैं।

पैर उठाने का व्‍यायाम या लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के लिए पहले आपको मानसिक रूप से तैयार होना चाहिए। उसके बाद आपको कुछ आसान सी तैयारी करने की आवश्‍यकता है। जैसे जिम या आपके आस-पास शांति हो, आपके पास एक एक्‍सरसाइज मेट हो और यदि आप विगनर हैं तो एक अनुभवी व्‍यक्ति भी आपके पास होना चाहिए।

(इसे भी पढ़ें – पाचन को मजबूत बनाने वाली एक्सरसाइज)

लेग राईस एक्‍सरसाइज करने की विधि – Raise Exercise Karne Ki Vidhi in Hindi

  • आप सबसे पहले एक योगा मेट को बिछाएं और इस पर शवासन (Shavasana) या आराम की मुद्रा में लेट जाएं।
  • लेटते समय इस बात का ध्‍यान रखें कि आपके पैरों के बीच की दूरी अधिक न हो।
  • इस तरह लेटते हुए आप अपनी हथेलियों को जमीन की तरफ करते हुए फर्श पर चिपकाएं।
  • इसके बाद आप गहरी श्वांस लें और फिर अपनी श्वांस न छोड़े।
  • इस दौरान आप धीरे-धीरे अपने पैरों को ऊपर की ओर उठाएं जब तक कि 90 डिग्री का कोण न बन जाए।
  • इस स्थिति में आप श्वांस छोड़ें और 20 से 25 सैकंड तक रूकें।
  • इसके बाद आप धीरे-धीरे प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।
  • यदि आप इस व्‍यायाम की शुरुआत कर रहे हैं तो पैरों को अधिक समय तक ऊपर उठाकर न रखें। क्‍योंकि ऐसा करने से आपके पेट की मांसपेशियों में दर्द हो सकता है।
  • कुछ दिनों तक नियमित रूप से लेग राईस एक्सरसाइज करने के बाद आप पैरों को ऊपर उठाने की अवधि में वृद्धि कर सकते हैं जो 2 से 3 मिनिट तक हो सकता है।
  • जब आप कुशलता से लेग राईस व्‍यायाम करने लगें तब प्रतिदिन इस व्‍यायाम को 4 से 5 बार दोहराएं।

लेग राईस एक्‍सरसाइज के प्रकार – Other Types Of Leg Raise Exercise in Hindi

पैरों को लिफ्ट करना या लेग राईजिंग एक्‍सरसाइज को अलग अलग प्रकार से किया जाता है। जिसमें आप अपने एक पैर या दोनों पैरों का उपयोग कर सकते हैं। हांलांकि लेग राईजिंग एक्‍सरसाइज (leg raising exercise) के अलग-अलग प्रकार होने के के कारण लेग राईज के फायदे (Leg raises benefits) भी अलग-अलग होते हैं। आइए जाने लेग राईजिंग एक्‍सरसाइज के अन्‍य प्रकार क्‍या हैं।

(इसे भी पढ़ें – एक पाद राजकपोतासन करने के फायदे)

डबल लेग राइज एक्सरसाइज – Double Leg Raise Exercise

डबल लेग राईस एक्सरसाइज में आपको दोनों पैरों को ऊपर उठाने की आवश्‍यकता होती है। यदि आप दैनिक जीवन में योग करते हैं तो आपको इस एक्‍सरसाइज को करने में किसी भी प्रकार की समस्‍या नहीं होगी। क्‍योंकि लेग राईस एक्‍सरसाइज को उत्‍तानपादासन (Utpalapanasan) योग है।

डबल लेग एक्‍सरसाइज करने का तरीका – Double Leg Raise Exercise karne ka tarika in Hindi

इस एक्‍सरसाइज को करने के लिए आप अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने पैरों को फैलाएं। इस दौरान आपके दोनों पैरों के बीच केवल उुंलियों के समान ही दूरी होनी चाहिए। आपके हाथ सीधे, लंबे और हथेलियां जमीन पर समतल रखी होनी चाहिए। इसके बाद आप अपने पैरों को धीरे-धीरे ऊपर की तरफ उठाएं। इस बात का ध्‍यान रखें की पैरों को झटके से ऊपर नहीं ले जाना है। पैरों को आसमान की तरफ बिल्कुल सीधा रखें। इस स्थिति में कुछ देर रुकें और फिर प्रारंभिक स्थिति में बापिस आ जाएं।

यदि आपको पीठ या कम में दर्द है तो आप अपने कूल्‍हों के नीचे तकिया या तौलिया को रोल करके रख सकते हैं। इसके अलावा यदि आप वर्कआउट बेंच का उपयोग करते हैं तो यह आपके लिए अधिक सुविधा जनक हो सकता है।

सिंगल लेग राईस एक्‍सरसाइज – Single leg raise Exercise

सिंगल लेग राईस एक्‍सरसाइज को केवल एक पैर से किया जाता है। हालांकि लेग राईस एक्‍सरसाइज को लाइंग लेग राईस (lying leg raises) एक्‍सरसाइज के नाम से भी जाना जाता है। सिंगल लेग राईस एक्‍सरसाइज करना बहुत ही आसान है। इस व्‍यायाम को करने से आपके पैरों और विशेष रूप से जांघों की हड्डी को मजबूत बनाने में मदद मिलती है। आइए जाने सिंगल लेग राईस एक्सरसाइज करने की विधि कया है।

सिंगल लेग राईस एक्‍सरसाइज करने का तरीका – Single Leg Raise Exercise karne ka Tarika in Hindi

सिंगल लेग राईस एक्‍सरसाइज या व्‍यायाम करने के लिए आप पहले वर्कआउट बेंच या जमीन पर लेट जाएं। इस दौरान आपके हाथ सीधे, लंबे और हथेलियां फर्श से जुड़ी हों। आपके दोनों पैर सामने की तरफ सीधे हों और उनके बीच की दूरी बहुत ही कम हो। आप सामान्‍य श्वांस लें और अपने दाहिने पैर को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं। इस दौरान ध्‍यान दें कि आपको अपने बाएं पैर को नहीं उठाना है। जब आपके दाएं पैर और छाती के बीच 90 डिग्री का कोण बन जाए तब कुछ देर तक इस स्थिति में रुकें और फिर धीरे-धीरे बापिस आ जाएं। इसी तरह से अब अपने बाएं पैर को उठाएं और प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं। नियमित रूप से ऐसा आपको 3 से 4 बार करना चाहिए।

मेडिसिन बॉल लेग राईस एक्सरसाइज – Medicine ball leg raise Exercise

यह एक्‍सरसाइज भी लेग अप्‍स एक्‍सरसाइज (leg ups exercise) की तरह ही होता है। लेकिन लेग राइस एक्‍सरसाइज करने के दौरान बॉल का उपयोग करने पर इसे बॉल लेग राईस एक्‍सरसाइज कहा जाता है। लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के दौरान स्थिति पूर्ववत रहती है। लेकिन इस दौरान आपको दोनों पैरों के तलवों में बॉल को पकड़कर संतुलन बनाना होता है। इस तरह से आप पैरों में बॉल को फंसा कर पैरों को ऊपर और नीचे करते हैं। आइए जाने मेडिसिन बॉल राईस एक्सरसाइज करने की विधि कया है।

बॉल लेग राईस एक्सरसाइज करने का तरीका  – Medicine ball leg raise Exercise karne ka tarika in Hindi

बॉल लेग राइ्रस एक्‍सरसाइज करने के लिए आप एक्‍सरसाइज मैट के ऊपर लेट जाएं। इस दौरान आपके पैर सामने की तरफ सीधे फैले हुए होने चाहिए। आपके हाथ सीधे लंबे और हथेलियां फर्श की तरफ होनी चाहिए। इसके बाद आपको अपने दोनों पैरों के बीच मेडिसिन बॉल को दबाना है और अपने पैरों को धीरे-धीरे ऊपर ले जाना है। इसके बाद इसी तरह से आप अपने पैरों को धीरे-धीरे नीचे की तरफ लाएं। आप मेडिसिन बॉल लेग राईस एक्‍सरसाइज को नियमित रूप से प्रतिदिन 4 से 5 बाद कर सकते हैं।

हैंगिंग लेग राईस एक्सरसाइज – Hanging leg raise Exercise

Hanging leg raise Exercise

हैंगिंग लेग राईस एक्‍सरसाइज को लटकने बाला व्‍यायाम भी कहा जाता है। हैंगिंग लेग राईस एक्‍सरसाइज करने से न केवल पैरों और कमर को मजबूती मिलती है बल्कि यह आपकी भुजाओं को भी मजबूत करता है। हैंगिंग लेग राईस (hanging leg raises) एक्‍सरसाइज में आपको एक्‍सरसाइज मैट की जगह पुल-अप बार या स्‍टैंड की आवश्‍यकता होती है। इस व्‍यायाम को करते समय आपको सावधानी रखनी चाहिए। नहीं तो यह आपकी मांसपेशियों में खिंचाव और दर्द का कारण बन सकता है। आप अपने मांसपेशिय विकास और मजबूती के लिए इस हैंगिंग लेग राईस व्‍यायाम को कर सकते हैं। आइए जाने हैंगिंग लेग राईस एक्सरसाइज करने की विधि कया है।

हैंगिंग लेग राईस एक्सरसाइज करने का तरीका – Hanging leg raise Exercise karne ka tarika in Hindi

अपने पैरों को लटकते हुए उठाने (Hanging leg raise Exercise) के लिए आपको पुल-अप बार की आवश्‍यकता होती है। आप पुल-अप बार के नीचे सीधे खड़े हो जाएं। इसके बाद आप अपने दोनों हाथों को समानातर रखते हुए ऊपर उठाएं। अब आप अपने हाथों से पुश-अप बार को पकड़ें। यह व्‍यायाम कुछ-कुछ बीम मारने वाले व्‍यायाम की तरह ही होता है। लेकिन लेग राईस व्‍यायाम में केवल आपको अपने पैरों को ऊपर उठाना होता है। आप अपने हाथों के सहारे पुश-अप बार में लटकें। लेकिन इस दौरान ध्‍यान दें कि आपका शरीर इस दौरान स्थिर हो। अब आप धीरे-धीरे अपने पैरों को सामने की तरफ हवा में उठाएं और अपनी कमर से 90 डिग्री का कोण बनाने की कोशिश करें।

आपको शुरुआत में अपने पैरों को ऊपर उठाने में परेशानी हो सकती है। इसलिए आप पहले अपने पैरों को घुटने से मोड़ लें और फिर धीरे से अपने पैरों को फैलाने का प्रयास करें।

साइड लेग राईस एक्सरसाइज – Side Leg Raise Exercise

लेग राईज एक्‍सरसाइज की सबसे आसान स्थिति साइड लेग राईस एक्‍सरसाइज है। इस एक्‍सरसाइज में आपको एक समय में केवल एक ही पैर को ऊपर उठाने की आवश्यकता होती है। लेकिन इस दौरान आपको फर्श, वर्कआउट बैंच पर या एक्‍सरसाइज मेट पर सीधा लेटने के बजाए करवट लेकर लेटना होता है। इस स्थिति में आप बारी-बारी अपने दोनों करवट लेकर अपने दोनों पैरों को ऊपर उठाते हैं। आइए जाने साइड लेग राईस एक्सरसाइज करने की विधि कया है।

साइड लेग राईस एक्सरसाइज करने का तरीका – Side Leg Raise Exercise karne ka tarika in Hindi

बाजू से पैर उठना (Side Leg Raise Exercise) इस व्‍यायाम को करने के लिए आप सबसे पहले एक्‍सरसाइज मेट में दायीं करवट लेकर लेटना चाहिए। इस स्थिति में आप अपने दाहिने हाथ को मोड़ते हुए तकिया की तरह उपयोग करें। साथ ही आप अपने बाएं हाथ की हथेली को अपनी छाती के सामने से मोड़ते हुए फर्श पर रखें। इसके बाद आप अपने बाएं पैर को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं और अधिकतम प्रयास करें यह 90 डिग्री तक सीधा हो। इस स्थिति में कुछ सेकंड तक रूकें और प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं। इसी तरह से आप अपनी करवट बदलकर यही प्रक्रिया दूसरे पैर से करें। नियमित रूप से साइड लेग राईस एक्‍सरसाइज को प्रतिदिन 4 से 5 बार दोहराना चाहिए।

लेग राईस एक्सरसाइज के फायदे – Benefits Of The Leg Raise Exercise in Hindi

स्‍वाभाविक रूप से लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के फायदे शरीर को स्‍वस्‍थ रखने के लिए जाने जाते हैं। नियमित रूप से लेग राईस एक्‍सरसाइज के लाभ आपकी जांघों, कूल्‍हों और कमर की हड्डियों को मजबूती दिलाती है। आप भी अपने दैनिक जीवन में नियमित रूप से योग और लेग राईस एक्‍सरसाइज का उपयोग कर शरीर को आंतरिक और बाहृ रूप से मजबूत कर सकते हैं।

आइए जाने लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के फायदे क्‍या हैं।

हैंगिंग लेग राईस के फायदे विगनर्स के लिए – Hanging Leg Raises For Beginners in Hindi

लटकते हुए पैर उठने या हैंगिंग लेग राईस एक्‍सरसाइज उन लोगों के लिए अच्‍छा है जो जिम जाना शुरु कर रहे हैं। क्‍योंकि जिम में पसीना बहाना भी कड़ी मेहनत ही है। इस दौरान शरीर की सहनशक्ति और स्थिरता को बढ़ाने में हैंगिंग लेग राईस एक्‍सरसाइज के फायदे होते हैं।

(इसे भी पढ़ें – लिंग बड़ा करने के लिए योग)

लेग लिफ्टिंग एक्‍सरसाइज के फायदे मांसपेशियों के लिए – Leg Raise Exercise Benefits for Strengthens core muscles in Hindi

पेट और कमर के नीचे की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए लेग राईस एक्‍सरसाइज फायदेमंद होती है। हैंगिंग लेग राईस एक्‍सरसाइज के फायदे आपकी कमर के ऊपरी और निचले हिस्‍से को मजबूती दिलाती है। जबकि जमीन पर लेट कर पैर उठाने वाली एक्‍सरसाइज (floor leg raises) आपके पेट के नीचे के हिस्‍से को मजबूत करती है। साथ ही यह पेट में जमा अतिरिक्‍त वसा को भी कम करने में सहायक है।

पैर उठाने वाली एक्‍सरसाइज के फायदे लचीलेपन के लिए – Leg Raise Exercise ke Fayde Lachilepan ke liye in Hindi

लेग राईस एक्‍सरसाइज के फायदे शरीर की लोच बढ़ाने में सहायक होते हैं। नियमित रूप से लेग लिफ्टिंग एक्‍सरसाइज करना आपके कूल्‍हों और पेट की मांसपेशियों को लचीला बनाता है। जिसके कारण आपको चढ़ने, उतरने या मेहनत के दौरान जोर-जोर से सांस लेते समय मांसपेशियों को अधिकतम क्षमता तक ले जाने में मदद मिलती है। अक्‍सर हम देखते हैं कि सीढ़ीयां या अन्‍य ऊंची जगह पर चढ़ने के दौरान हम हांफने लगते हैं लेकिन मांसपेशियों में लचीलापन न होने के कारण हमें सीने में दर्द का अनुभव होता है।

लेग राईस एक्‍सरसाइज के लाभ शरीर का संतुलन बनाए – Leg Raise Exercise for Enhances balance and stability in Hindi

शारीरिक संतुलन और स्थिरता को बनाए रखने में लेग राईस एक्‍सरसाइज उपयोगी होती है। विशेष रूप से हैंगिंग लेग एक्‍सरसाइज शरीर को स्थिर रखने का अभ्‍यास कराती है। नियमित रूप से लेग राईस एक्‍सरसाइज करना आपके शरीर को संतुलित वजन दिलाता है। साथ ही यह आपकी हड्डियों में लोच बढ़ाता है जिससे चोट लगने या मोच आदि की संभावना कम हो सकती है। लेग राईस एक्‍सरसाइज का उपयोग सभी लोगों के लिए आवश्‍यक है विशेष रूप से जिम्‍नास्ट और रनर के लिए।

पैरों को लिफ्ट करने के फायदे वजन कम करे – Leg Lift karne ke fayde Vajan kam kare in Hindi

Leg Lift karne ke fayde Vajan kam kare in Hindi

जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं उन्‍हें नियमित रूप से लेग राईस एक्‍सरसाइज या पैरों को लिफ्ट करने वाला व्‍यायाम करना चाहिए। जो लोग जिम में अपने शरीर को सुडौल और सिक्‍स पैक बनाना चाहते हैं उनके लिए लेग राईस एक्‍सरसाइज के फायदे होते हैं। जिम में नियमित रूप से लेग लिफ्टिंग एक्‍सरसाइज करना आपके पेट को अलग-अलग एब्‍स या सिक्स पैक बनाने में सहायक होते हैं।

लेग राईस एक्‍सरसाइज का उपयोग पीठ दर्द कम करे – Leg Raise Exercise for Lowers risk of back injuries in Hindi

Leg Raise Exercise for Lowers risk of back injuries in Hindi

नियमित रूप से व्‍यायाम करना शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी होता है। आप भी अपनी पीठ की मांसपेशियों को लचीली और मजबूत करने के लिए दैनिक दिनचर्या में लेग राईस एक्‍सरसाइज को शामिल कर सकते हैं। जिसके कारण आप पीठ पर पड़ने वाले दवाब को सहने की सहनशक्ति में वृद्धि कर सकते हैं। जिसके कारण एक्‍सरसाइज करने या किसी मेहनती काम करने के दौरान पीठ के दर्द या पीठ की मोच आदि की संभावना को कम किया जा सकता है।

लेग राईस एक्‍सरसाइज के दौरान गलतियां – Common Mistakes of Leg Raise Exercise in Hindi

सामान्‍य रूप से किसी भी व्‍यायाम या एक्‍सरसाइज करने के दौरान छोटी-छोटी गलतियां होना स्‍वाभाविक है। लेकिन फिर भी आपका यह अधिकतम प्रयास होना चाहिए कि ये गलतियां न हो। क्‍योंकि कभी-कभी इन गलतियों के नुकसान भी हो सकते हैं। लेग राईस एक्‍सरसाइज के दौरान होने वाली कुछ सामान्‍य गलतियां इस प्रकार हैं।

  • विगनर्स शुरुआत में ही लेग राईस एक्‍सरसाइज को अधिक समय तक करने का प्रयास करते हैं। जो कि उनके लिए नुकसान दायक हो सकता है। इसलिए समय के साथ धीरे-धीरे इस एक्‍सरसाइज को करने का समय बढ़ाना चाहिए।
  • जब आप लेग राईस एक्‍सरसाइज कर रहे हों तब इस बात का ध्‍यान रखें कि आप तनाव या अवसाद की स्थिति में न हों।
  • जब आप व्‍यायाम कर रहे हों तब बार-बार पानी का सेवन न करें। कुछ लोग व्‍यायाम के दौरान ही बीच-बीच में पानी या एनर्जी ड्रिंक का सेवन करते हैं।
  • लेग राईस एक्‍सरसाइज के दौरान चोट लगने की संभावना अधिक होती है जब आप जोर से या झटके के साथ इस एक्‍सरसाइज को करते हैं।
  • कुछ लोग अन्‍य योगा की तरह ही लेग राईस एक्‍सरसाइज के दौरान सांस को रोकते हैं। लेकिन आपको ऐसा नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि ऐसा करना आपके रक्‍तचाप को प्रभावित कर सकता है।

लेग राईस एक्सरसाइज करते समय यह सावधानियां रखें – Precautions to do Leg Raise Exercise in Hindi

लेग लिफ्टिंग एक्‍सरसाइज या अन्‍य किसी भी व्‍यायाम के दौरान आपको कुछ विशेष सावधानियां रखनी चाहिए। आप भी लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के दौरान इन सावधानियों का ध्‍यान रखें।

  • यदि आप पहले से ही कमर, पीठ आदि के दर्द से ग्रसित हैं तब ऐसी स्थिति में लेग राईस एक्‍सरसाइज न करें।
  • हाई ब्‍लड प्रेशर या हाल ही में हुई सर्जरी वाले व्‍यक्ति को लेग राईस एक्‍सरसाइज नहीं करना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं और विशेष रूप से गर्भावस्‍था के 3 माह के बाद उन्‍हें इस एक्‍सरसाइज को नहीं करना चाहिए।
  • यदि आप किसी विशेष प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या से परेशान हैं तो लेग राईस एक्‍सरसाइज करने से पहले अपने डॉक्‍टर से अनुमति लें।

लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के नुकसान – Leg Raise Exercise karne ke Nuksan in Hindi

सामान्‍य रूप से लेग राईस एक्‍सरसाइज करने के नुकसान नहीं होते हैं, यदि सही तरीके से इस व्‍यायाम को किया जाए। लेकिन फिर भी असावधानी से करने पर लेग राईस एक्‍सरसाइज के कुछ नुकसान भी हो सकते हैं।

  • गलत तरीके से इस व्‍यायाम को करने से कमर मे चोट लग सकती है।
  • गर्भवती महिलाओं को पैर लिफ्ट एक्‍सरसाइज करने के दौरान गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है।
  • हाई वीपी रोगी को अधिक समय तक लेग लिफ्टिंग एक्‍सरसाइज करने से उच्‍च रक्‍तचाप संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

यदि आप और अधिक स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी जानाकरी प्राप्‍त करना चाहते हैं तो हमारे Facebook और Twitter Page को फालो कर सकते हैं।

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required