विटामिन ए के स्रोत और फायदे – Vitamin A Benefits and Sources in Hindi

विटामिन ए के स्रोत और फायदे – Vitamin A Benefits and Sources in Hindi

विटामिन ए के फायदे मुख्‍य रूप से आंखों के लिए होते हैं। विटामिन ए एक महत्‍वपूर्ण पोषक तत्‍व है जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्‍यक है। विटामिन ए क्‍या है यह अधिकांश लोगों को पता नहीं है। ज‍बकि विटामिन ए के बारे में पूरी जानकारी होना आवश्‍यक है। विटामिन ए के कार्य शरीर को कई बीमारियों से बचाने में सहायक होते हैं। विटामिन ए की कमी से होने वाले रोग गंभीर हो सकते हैं। लेकिन विटामिन ए की कमी के उपचार के लिए आप विटामिन ए की गोली या विटामिन ए के कैप्‍सूल आदि का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आप विटामिन ए के स्रोत वाले आहारों का सेवन करना भी विटामिन ए की कमी दूर कर सकता है। आज इस लेख में आप विटामिन ए के स्रोत और फायदे जानेगें।

विटामिन A के फायदे और नुकसान

1. विटामिन ए क्‍या है – Vitamin A kya hai
2. विटामिन ए का रासायनिक नाम – vitamin a ka rasayanik naam kya hota hai
3. विटामिन A के बारे में  – vitamin A ke bare me
4. विटामिन ए की खोज किसने की – Vitamin A ki khoj kisne ki
5. विटामिन ए में क्या पाया जाता है – Vitamin A me kya paya jata hai
6. विटामिन ए के कार्य – Vitamin A ke karya
7. विटामिन ए की कमी के लक्षण – vitamin A ki kami ke lakshan in Hindi

8. विटामिन ए की कमी का कारण – Vitamin A ki kami ka karan
9. विटामिन ए की कमी किसे होती है – Vitamin A ki kami kise hoti hai
10. विटामिन ए की गोली के बारे में – Vitamin A tablets
11. विटामिन ए के कैप्सूल – Vitamin A Capsules
12. विटामिन A की कमी के रोग – Vitamin A ki kami ke rog
13. विटामिन ए के स्रोत – Vitamin A Source in Hindi
14. विटामिन ए के फायदे – Vitamin A ke fayde
15. विटामिन ए की खुराक – How much vitamin A should you take in Hindi
16. विटामिन ए के नुकसान – Vitamin A ke Nuksan

विटामिन ए क्‍या है – Vitamin A kya hai

वसा में घुलनशील विटामिन के एक प्रकार को विटामिन ए कहा जाता है। विटामिन ए को रेटिनॉल (Retinol) के नाम से भी जाना जाता है। विटामिन ए जीरोफ्थैल्मिया (Xerophthalmia) रोग का उपचार करने में सहायक होता है। गाजर में सबसे ज्‍यादा विटामिन ए पाया जाता है। विटामिन ए में एंटीऑक्‍सीडेंट पाया जाता है जो आंखों और कोशिकाओं को क्षतिग्रस्‍त होने से बचाता है। विटामिन ए की कमी से रतौंधी या आंखों संबंधी रोग होने की संभावना सबसे अधिक होती है। विटामिन ए मुख्‍य रूप से खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से होता है जो प्रोविटामिन ए (Provitamin A) से मिलता है।

विटामिन ए का रासायनिक नाम – vitamin a ka rasayanik naam kya hota hai

सभी विटामिनों के रासायनिक नाम होते हैं, विटामिन A का रासायनिक नाम रेटिनॉल (Retinol) है। विटामिन A को रासायनिक रूप से बीटा कैरोटीन (beta-carotene) के नाम से भी जाना जाता है। अपनी प्रकृति और खाद्य पदार्थों में मौजूदगी के कारण Vitamin A के अन्‍य रासायनिक नाम रेटिनल (Retinals) और कैरोटीनॉयड (Carotenoids) आदि हैं।

विटामिन A के बारे में  – vitamin A ke bare me

सभी जानते हैं कि Vitamin A वसा में घुलनशील (Fat soluble) Vitamin का एक प्रकार है। vitamin a स्किन, बोन्‍स और बॉडी सेल्‍स को स्‍ट्रोंग रखने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन ए में Antioxidant की उच्‍च मात्रा मौजूद होता है। ये एंटीऑक्‍सीडेंट शरीर की कोशिकाओं की मरम्‍मत करने में सहायक होते हैं। एंटीऑक्‍सीडेंट की प्राप्ति के लिए आप विटामिन युक्‍त खाद्य पदार्थों और विटामिन ए सप्‍लीमेंट का सेवन कर सकते हैं। विटामिन ए के बेनिफिट्स में प्रतिरक्षा शक्ति में वृद्धि भी शामिल है। इसके अलावा विटामिन ए के फायदे हार्ट हेल्‍थ, फेफड़े स्‍वस्‍थ रखने, किडनी और त्‍वचा स्‍वास्‍थ्‍य के साथ ही बालों के लिए लाभकारी होता है।

विटामिन ए की खोज किसने की – Vitamin A ki khoj kisne ki

विटामिन ए की खोज के दावेदार वैज्ञानिक फ्रेडरिक गोलैंड हॉपकिंस (Frederick Gowland Hopkins) को माना जाता है। हालांकि माना जाता है कि 1911 में ही विटामिन ए की खोज कर ली गई थी। 1911 में विल्‍हेम स्‍टेप (Wilhelm Stepp) के अनुसार विटामिन ए को सबसे पहले दूध में घुलनशील वसा के रूप में पाया गया। 1914 में हुए एक अध्‍ययन में वैज्ञानिकों की एक संयुक्‍त टीम ने विटामिन ए की खोज की। इस संयुक्‍त टीम में एल्‍मर मैककालम (Elmer McCollum), गोलैंड हॉपकिंस (Gowland Hopkins), कासिमिर फंक (Casimir Funk) आदि वैज्ञानिक शामिल थे।

विटामिन ए में क्या पाया जाता है – Vitamin A me kya paya jata hai

सामान्‍य रूप से विटामिन ए में एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं। इसके अलावा vitamin a में रेटिनॉल होता है जो रक्‍त में विटामिन का सक्रिय रूप होता है। इसके अलावा विटामिन A में रेटिनायल पामिटेट (Retinyl palmitate) की भी उच्‍च मात्रा होती है। हालांकि विटामिन ए में पाये जाने वाले घटक स्रोत या खाद्य पदार्थ के आधार पर अलग-अलग होते हैं। वनस्‍पति और पौधे आधारित खाद्य पदार्थों में विटामिन ए बीटा-कैरोटीन (Beta-carotene) और कैरोटीनॉयड (Carotenoid) के रूप में मौजूद रहता है। यदि फलों और सब्जियों की बात की जाए तो इनमें विटामिन ए प्रो-विटामिन ए (pro-vitamin A) के रूप में होता है। pro-vitamin A एक प्रकार का एंटीऑक्‍सीडेंट जो आवश्‍यकता के अनुसार शरीर में विटामिन ए का रूप ले सकता है।

विटामिन ए के कार्य – Vitamin A ke karya

विटामिन ए के कार्य मुख्‍य रूप से आंखों को स्‍वस्‍थ रखने और शारीरिक समस्‍याओं को दूर करने के लिए जाने जाते हैं। सभी लोग इस बात से परिचित हैं कि विटामिन ए आंखों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके अलावा विटामिन ए के फायदे शारीरिक कोशिकाओं और हड्डियों के विकास में सहायक होते हैं। विटामिन ए के स्रोत वाले खाद्य पदार्थों का नियमित सेवन आपको मूत्र विकार, श्वसन विकार और आंत पथ संबंधी समस्‍याओं से बचा सकते हैं। इस प्रकार विटामिन ए के फायदे आपकी आंखों के साथ ही संपूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी होते हैं।

विटामिन ए की कमी के लक्षण – vitamin A ki kami ke lakshan in Hindi

 

विटामिन ए की कमी के लक्षण – vitamin A ki kami ke lakshan in Hindi

रात में देखने में परेशानी विटामिन एक की कमी के लक्षण होते हैं। इसके अलावा अन्‍य ऐसे बहुत सी शारीरिक समस्‍याएं हैं जो विटामिन एक की कमी के लक्षण को दर्शाती हैं। आइए विटामिन ए की कमी से किसी व्‍यक्ति को किस प्रकार की समस्‍याएं हो सकती हैं।

  • रात के समय देखने में परेशानी होना या कम दिखाई देना विटामिन एक की कमी के लक्षणों में से एक है।
  • आंखों का सूखापन या ड्राई आई भी विटामिन ए की कमी के कारण हो सकता है।
  • बालों का झड़ना और समय से पहले भूरा होना विटामिन एक के लक्षणों में से एक है।
  • कई प्रकार की त्‍वचा समस्‍याएं विटामिन ए के कारण होती हैं।
  • शारीरिक और मानसिक थकावट विटामिन एक की आंशिक कमी के लक्षण होते हैं।
  • घाव उपचार में देरी होना या घाव धीरे-धीरे भरना विटामिन ए की कमी के कारण हो सकता है।
  • कुछ विशेष श्वसन संबंधी समस्‍याओं में विटामिन ए की कमी अहम योगदान देती है।

विटामिन ए की कमी का कारण – Vitamin A ki kami ka karan

हम सभी जानते हैं कि विटामिन, प्रोटीन और सभी पोषक तत्‍व हमें खाद्य पदार्थों के माध्‍यम से ही प्राप्‍त होते हैं। स्‍वाभाविक है प्रमुख रूप से विटामिन ए की कमी का कारण उचित खाद्य पदार्थों का कम मात्रा में सेवन करना होता है। इसके अलावा हमारी कुछ गलत आदतों और गलत खान-पान भी विटामिन ए की कमी का बन सकता है। आइए संक्षिप्‍त में समझें विटामिन ए की कमी क्‍यों होती है।

  • किसी भी व्‍यक्ति में विटामिन ए की कमी का कारण कुपोषण (Malnutrition) होता है। इसका मतलब यह है कि उस व्‍यक्ति को शुरुआत में ही भोजन की उचित खुराक नहीं मिली या फिर उसे पर्याप्‍त मात्रा में पोषक तत्‍वों युक्‍त भोजन प्राप्‍त नहीं हुआ।
  • विटामिन ए की कमी उन बच्‍चों में भी होती है जिन्‍हें पर्याप्‍त मात्रा में मां का दूध नहीं मिलता है। जो महिलाएं अपने शिशु को जन्‍म के बाद दूध नहीं पिला पाती हैं उन बच्‍चों में विटामिन ए की कमी की अधिक संभावना होती है।
  • गर्भावस्‍था और स्‍तनपान कराने के दौरान मां के शरीर में विटामिन ए की कमी के कारण बच्‍चे में भी विट‍ामिन ए की कमी हो सकती है।
  • कुछ लोग बार-बार पेशाब जाने वाली समस्‍या से परेशान होते हैं। यह समस्‍या भी उनके शरीर में भी विटामिन एक की कमी का कारण बन सकता है।
  • लिवर संबंधी बीमारियां भी रोगी के शरीर में विटामिन ए की कमी का कारण बन सकता है।
  • जो लोग हरी, ताजी पत्‍तेदार सब्जियों और फलों का पर्याप्‍त सेवन नहीं करते हैं उनमें विटामिन ए की कमी होने की अधिक संभावना होती है।

विटामिन ए की कमी किसे होती है – Vitamin A ki kami kise hoti hai

विटामिन ए की कमी किसी भी उम्र में किसी भी व्‍यक्ति को हो सकती है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि विटामिन ए की कमी सीधे रूप से आपके द्वारा किये जाने वाले आहार पर निर्भर करती है। फिर भी कुछ विशेष परिस्थितियों में या कुछ विशेष लोगों में विटामिन ए की कमी के लक्षण अधिक हो सकते हैं। आइए जाने विटामिन ए की कमी किन लोगों में हो सकती है।

  • जो लोग अपने आहार में चावल का अधिक सेवन करते हैं उन्‍हें विटामिन ए की कमी हो सकती है।
  • गर्भावस्‍था के दौरान प्रथम 3 महिने तक किसी भी महिला को विटामिन ए की विशेष आवश्‍यकता होती है। इसलिए गर्भावस्‍था के समय महिलाओं में विटामिन ए की कमी होती है।
  • गंभीर बीमारियों से ग्रसित लोगों को विटामिन ए की कमी होना स्‍वाभाविक है।
  • अधिक उम्र के बुजुर्ग लोगों में विटामिन ए की कमी हो सकती है यदि वे अपने खान-पान में ध्‍यान न दें तो।
  • छोटे बच्‍चों या शिशुओं को विटामिन ए की कमी की सबसे अधिक संभावना होती है।

विटामिन ए की गोली के बारे में – Vitamin A tablets

शरीर में विटामिन ए की कमी को पूरा करने के लिए विटामिन ए की गोली का सेवन किया जाता है। शोधकर्ता विटामिन ए की गोली के बारे में बताते हैं कि यह हड्डियों के विकास, दृष्टि, प्रजनन और त्‍वचा कोशिकाओं के विकास आदि में सहायक होते हैं। सामान्‍य रूप से यदि आप विटामिन ए की गोली का सेवन नहीं करना चाहते हैं तो विटामिन ए वाले खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं। उदाहरण के लिए अंडे की जर्दी, मक्‍खन और दूध की मलाई आदि का सेवन कर सकते हैं।

विटामिन ए के कैप्सूल – Vitamin A Capsules

अधिकांश लोगों को पता नहीं होता है कि विटामिन ए के कैप्‍सूल का उपयोग किस लिए किया जाता है। विटामिन ए की कमी को दूर करने के लिए विटामिन ए के कैप्‍सूल का सेवन एक अच्‍छा विकल्‍प है। हालांकि विटामिन ए रिच फूड्स का सेवन भी आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। विटामिन ए की कमी से लोगों को गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के साथ ही त्‍वचा संक्रमण, चकते, मुंहासे आदि हो सकते हैं। इन सभी का उपचार करने के लिए विटामिन ए के कैप्‍सूल फायदेमंद होते हैं।

विटामिन A की कमी के रोग – Vitamin A ki kami ke rog

विटामिन A की कमी के रोग अक्‍सर गंभीर होते हैं। लेकिन विटामिन ए की कमी दूर करने के उपाय और खाद्य पदार्थों का सेवन करना फायदेमंद होता है। विटामिन A की कमी से होने वाले रोग इस प्रकार हैं :

विटामिन ए की कमी के रोग रतौंधी – Vitamin A ki kami ke rog ratondhi

विटामिन ए की कमी से होने वाले प्रमुख रोग में रतौंधी (night blindness) या रात में कम दिखाई देना जैसी समस्‍या होती है। कुछ लोगों को विटामिन ए की कमी के कारण रात में आंशिक या पूर्ण रूप से दिखाई नहीं देता है।

विटामिन ए की कमी से होता है संक्रमण – Vitamin A ki kami ke se hota hai sankraman

विटामिन ए की कमी सीधे तौर पर हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करती है। जिससे हमारा शरीर संक्रमण के खिलाप नहीं लड़ पाता है। विटामिन ए की कमी से होने वाले संक्रमण संबंधी रोगों में सबसे अधिक गला (throat), छाती और पेट प्रभावित होते हैं।

विटामिन ए की कमी का नुकसान त्‍वचा को – Vitamin A ki kami ka nuksan twacha ko

यदि शरीर में विटामिन ए की कमी या सामान्‍य से कम मात्रा होती है तो यह त्‍वचा को नुकसान भी पहुंचा सकता है। विटामिन ए की कमी के कारण कूपिक हाइपरकेराटोसिस (follicular hyperkeratosis) की समस्‍या हो सकती है। यह शुष्क, खुरदुरी और परतदार त्‍वचा का कारण बनता है।

(इसे भी पढ़ें – स्किन एलर्जी के घरेलू उपाय)

विटामिन ए की कमी केराटोमेलेशिया का कारण – vitamin A ki kami Keratomalacia ka karan

केराटोमेलेशिया (Keratomalacia) एक आंखों संबंधी समस्‍या है जो विटामिन ए की कमी के कारण होती है। विटामिन ए कॉर्निया और कंजाक्तिवा (cornea and conjunctiva) को बनाए रखने में सहायक होता है। इसलिए आंखों को स्‍वस्‍थ रखने के लिए विटामिन ए बहुत ही आवश्‍यक घटक है।

विटामिन ए की कमी प्रजनन क्षमता कम करे – Vitamin A ki kami prajnan chamta kam kare

महिला और पुरुष दोनों के लिए विटामिन ए की पर्याप्‍त मात्रा का सेवन आवश्‍यक है। क्‍योंकि विटामिन ए की कमी के कारण उन्‍हें प्रजनन संबंधी समस्‍याओं (keratomalacia) का सामना करना पड़ सकता है।

(इसे भी पढ़ें – सेक्स पावर बढ़ाने वाली दवा के नुकसान)

विटामिन ए की कमी बच्‍चों के विकास को रोके – Vitamin A ki kami bacho ke vikas ko roke

विटामिन ए की कमी के कारण शिशुओं के शारीरिक और मानसिक विकास में रूकावट आती है। शाय‍द इसलिए ही डॉक्‍टर गर्भावस्‍था और स्‍तन पान के दौरान महिलाओं को विटामिन ए युक्‍त खाद्य पदार्थों का नियमित और भरपूर सेवन करने की सलाह देते हैं। जिससे दूध पीने वाले और भ्रूण में पल रहे बच्‍चे का पूरा विकास हो सके।

विटामिन ए के स्रोत – Vitamin A Source in Hindi

विटामिन ए के स्रोत या विटामिन युक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन ही एक मात्रा ऐसा विकल्‍प है। जो प्राकृतिक रूप से विटामिन ए की कमी को दूर कर सकता है। विटामिन ए के स्रोत क्‍या है जो हमें स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में सहायक हैं। यदि आप भी विटामिन ए संबंधी समस्‍याओं का सामना करने से बचना चाहते हैं तो विटामिन ए वाले खाद्य पदार्थ और पूरक पदार्थों का सेवन कर सकते हैं। विटामिन ए के स्रोत कौन कौन से हैं यह एक सामान्‍य प्रश्‍न है। विटामिन ए के मुख्‍य स्रोत में गाजर, दूध और अंडा जैसे खाद्य पदार्थ आते हैं। विटामिन ए के प्रमुख स्रोत के सबसे अच्‍छे विकल्‍प इस प्रकार हैं।

अंडा,  दूध,  गाजर, पालक, काले, पपीता, अंडे की जर्दी, दूध, दही, सोयाबीन और अन्य पत्तेदार हरी सब्जियां शामिल हैं।

विटामिन ए रेटिनॉल (Retinals) के सबसे अच्छे स्रोत – The best sources of vitamin A retinol

 

 

विटामिन ए रेटिनॉल (Retinals) के सबसे अच्छे स्रोत – The best sources of vitamin A retinol

हम सभी जानते हैं कि विटामिन ए का एक रूप रेटिनॉल (Retinals) होता है। रेटिनॉल आंखों को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के साथ ही अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओ को दूर कर सकता है। यदि आप खाद्य पदार्थों के माध्‍यम से रेटिनॉल की कमी को दूर करना चाहते हैं तो कुछ विशेष खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं। इन खाद्य पदार्थों में शामिल हैं :

आर्गन मीट – यदि आप अपने शरीर में विटामिन ए और विशेष रूप से रेटिनॉल की कमी को दूर करना चाहते हैं तो आर्गन मीट (Organ meat) का सेवन कर सकते हैं। यह विटामिन ए के मुख्‍य स्रोतों में से एक है।

वसा युक्‍त मछली – विटामिन ए के प्रमुख स्रोत में मछली एक अच्‍छा विकल्‍प है। आप अपने साप्‍ताहिक या दैनिक आहार में हेरिंग, टूना, साल्‍मन और मेकेराल जैसी मछलीयों को शामिल कर सकते हैं।

डेयरी उत्‍पाद – विटामिन ए के स्रोत में दूध उत्पादों को प्रमुखता से शामिल किया जाता है। क्‍योंकि दूध और इससे बने उत्‍पाद विटामिन ए के अच्‍छे स्रोत माने जाते हैं। इस प्रकार के आहार में आप दूध, मक्‍खन, दही, पनीर आदि को शामिल कर सकते हैं।

विटामिन ए कैरोटीनॉयड (Carotenoids) के प्रमुख स्रोत – The best sources of vitamin A Carotenoids

 

विटामिन ए कैरोटीनॉयड (Carotenoids) के प्रमुख स्रोत – The best sources of vitamin A Carotenoids

कैरोटीनॉयड (Carotenoids) विटामिन ए का एक रूप है जो पौधे आ‍धारित खाद्य पदार्थों से प्राप्‍त होता है। कैरोटीनॉयड भी हमारे बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए एक महत्‍वपूर्ण घटक है। कैरोटीनॉयड प्राप्‍त करने के लिए विटामिन ए के मुख्‍य स्रोत इस प्रकार हैं।

विटामिन ए की कमी को दूर करने के लिए आप गाजर, कद्दू और लगभग अलग-अलग रंग की सभी सब्जियों का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा शकरकंद भी कैरोटीनॉयड का अच्‍छा स्रोत होता है। आप नारंगी रंग से संबंधित फलों का विशेष रूप से सेवन कर सकते हैं जैसे नारंगी, संतरा,आम और पपीता आदि।

विटामिन ए बीटा-कैरोटीन (beta-carotene) के स्रोत – The best sources of vitamin A beta-carotene

विटामिन ए बीटा-कैरोटीन (beta-carotene) के स्रोत - The best sources of vitamin A beta-carotene

 

बीटा-कैरोटीन (beta-carotene) हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्‍यक घटक है जो कि विटामिन ए का ही एक रूप है। विटामिन ए के ये सभी रूप उनके स्रोतों के आधार पर बदल जाते हैं। जैसे मांस युक्‍त आहार में रेटिनॉल (Retinals), पौधे आधारित खाद्य पदार्थ में कैरोटीनॉयड (Carotenoids) और सब्जियां आधारित खाद्य पदार्थों में बीटा-कैरोटीन आदि।

बीटा-कैरोटीन या सब्जियां आधारित विटामिन ए प्राप्‍त करने के लिए आप अपने दैनिक आहार में ब्रोकोली (Broccoli), पालक (Spinach), शलजम (Turnips) और अन्‍य पत्‍तेदार (Leafy green) सब्जियों को शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा आप शिमला मिर्च, तुरई (zucchini) और कालीमिर्च आदि का भी सेवन कर सकते हैं।

विटामिन ए के फायदे – Vitamin A ke fayde

विटामिन ए के फायदे स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी कई समस्‍याओं को दूर करने में प्रभावी होते हैं। विटामिन के फायदे स्‍वास्‍थ्‍य के साथ ही सौंदर्य प्रसाधन के लिए होते हैं। विटामिन ए कैप्‍सूल के फायदे बालों और त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए घरेलू नुस्‍खे के रूप में उपयोग किये जाते हैं। सामान्य रूप से विटामिन ए के लाभ बच्‍चों के सर्वांगीण विकास में मदद करते हैं। आइए विस्‍तार से जाने विटामिन ए के फायदे और नुकसान क्‍या हैं।

विटामिन ए के फायदे आंखों के लिए – Vitamin A ke Fayde aankho ke liye

 

विटामिन ए के फायदे आंखों के लिए – Vitamin A ke Fayde aankho ke liye

आंख हमारे शरीर का सबसे प्रमुख और अतिसंवेदनशील अंग हैं। विटामिन ए के फायदे आंखों को स्‍वस्‍थ रखने और उम्र बढ़ने पर देखने की क्षमता को बढ़ाने में सहायक होते हैं। आंखों की पूरी सुरक्षा के लिए विटामिन के लाभ जाने जाते हैं। य‍ही कारण है कि आंखों सबंधी समस्‍या होने पर अधिकांश डॉक्‍टर विटामिन ए सप्लीमेंट और विटामिन ए फूड्स खाने की सलाह देते हैं। यदि आप भी मोतियाबिंद, कमजोर दृष्टि जैसी समस्‍याओं से बचना चाहते हैं तो विटामिन ए फूड्स को अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं।

विटामिन ए के लाभ कैंसर रोके – Vitamin A ke labh Cancer roke

विटामिन ए के फायदे इसलिए होते हैं क्‍योंकि यह विटामिन होने के साथ ही एक एंटीऑक्‍सीडेंट भी होता है। एंटीऑक्‍सीडेंट होने के कारण विटामिन ए के लाभ कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने और उन्‍हें नष्‍ट करने में सहायक होता है। एक अध्‍ययन के अनुसार बीटा-कैरोटीन कुछ विशेष प्रकार की कैंसर कोशिकाओं को रोकने में प्रभावी होता है। आप भी विटामिन ए के लाभ प्राप्‍त करने के लिए विटामिन ए फूड्स को अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं। विटामिन ए के गुण आपको भविष्‍य में कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचाने में सहायक होते हैं।

(इसे भी पढ़ें – गले का कैंसर, कारण लक्षण और बचाव)

विटामिन ए के गुण प्रतिरक्षा शक्ति बढ़ाये – Vitamin A ke gun immunity power Badhaye

शरीर की प्राकृतिक सुरक्षा के लिए विटामिन के फायदे होते हैं। विटामिन ए के गुण आपकी आंखों, हृदय, आंतों और जन्‍नांग में श्‍लेष्‍म संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में सहायक है। ये समस्‍याएं बैक्‍टीरिया संक्रमण के कारण होती हैं। लेकिन नियमित रूप से विटामिन ए फूड्स का सेवन आपको इन समस्‍याओं से बचा सकता है। विटामिन ए के लाभ शरीर में श्‍वेत रक्‍त कोशिकाओं के उत्‍पादन को बढ़ाता है। इसका मतलब यह होता है कि विटामिन ए के फायदे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होते हैं।

विटामिन ए का उपयोग हड्डी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए – Vitamin A ka Upyog bone health ke liye

नियमित रूप से विटामिन ए का उपयोग आपकी हड्डियों को मजबूत करने और उन्‍हें स्‍वस्‍थ्‍य रखने में सहायक होते हैं। हालांकि हड्डियों के लिए आवश्‍यक पोषक तत्‍व में प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन डी प्रमुख होते हैं। लेकिन विटामिन ए फूड्स का पर्याप्‍त सेवन आपकी हड्डियों के उिचित विकास और वृद्धि में सहायक होता है। आप भी विटामिन ए का उपयोग अपने खाद्य पदार्थों में करके ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) और अन्‍य हड्डियों संबंधी समस्‍याओं को रोकने के लिए कर सकते हैं।

विटामिन ए फॉर हेयर – Vitamin a benefits for hair

विटामिन ए के फायदे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए होने के साथ ही बालों में वृद्धि करने में सहायक होता है। यदि आप बालों के झड़ने, टूटने और डैंड्रफ जैसी समस्‍याओं से परेशान हैं तो विटामिन ए युक्‍त खाद्य पदार्थ और विटामिन ए कैप्‍सूल का उपयोग कर सकते हैं। विटामिन ए बालों की जड़ों को पर्याप्‍त पोषण देने और बालों को जड़ से मजबूत करने में सहायक होते हैं। आप भी अपने बालों संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए विटामिन ए का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। विटामिन ए के फायदे बालों को समय से पहले भूरे या सफेद होने से भी रोकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – बालों के लिए सबसे अच्छा तेल कौन सा है)

विटामिन ए बेनिफिट्स फोर स्किन – Vitamin a benefits for Skin

विटामिन के फायदे त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं को प्रभावी रूप से दूर कर सकते हैं। यदि आप मुंहासे और इसी तरह की अन्‍य त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं से छुटकारा पाना चाहते हैं तो विटामिन ए फूड्स और विटामिन ए के कैप्सूल का उपयोग कर सकते हैं। विटामिन ए के लाभ त्‍वचा में तेल उत्‍पादन को नियंत्रित करते हैं। जिससे अधिक मात्रा में सीबम उत्‍पादन को रोका जा सकता है। अधिक मात्रा में सीबम का उत्‍पादन मुंहासों का प्रमुख कारण होता है।

इस तरह से मुंहासे को रोकने के लिए विटामिन ए फायदेमंद होता है।

विटामिन ए की खुराक – How much vitamin A should you take in Hindi

सामान्‍य रूप से हमें विटामिन की खुराक प्राप्‍त करने के लिए प्राकृतिक खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। क्‍योंकि ये खाद्य पदार्थ न केवल विटामिन ए बल्कि अन्‍य खनिज पदार्थ और पोषक तत्‍वों के अच्‍छे स्रोत होते हैं। लेकिन इन खाद्य पदार्थों में भी बीटा-कैरोटीन में उच्‍च खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा आप विटामिन ए की कमी को दूर करने के लिए डॉक्‍टर की सलाह पर विटामिन ए की गोली और विटामिन ए के कैप्‍सूल आदि का भी सेवन कर सकते हैं।

विटामिन ए की कोई अनुशंसित खुराक नहीं है। फिर भी अधिकांश वयस्‍क व्‍यक्ति को भोजन के माध्‍यम से प्रतिदिन लगभग 10,000 आईयू (10,000 IU) विटामिन ए प्राप्‍त करने की आवयकता होती है।

विटामिन ए के नुकसान – Vitamin A ke Nuksan

स्‍वाभाविक है कि विटामिन ए हमारे स्‍वास्‍थ्‍य और सौंदर्य के लिए फायदेमंद होता है। लेकिन आवश्‍यकता से अधिक मात्रा में सेवन करने से विटामिन ए के नुकसान भी हो सकते हैं। आइए जाने विटामिन ए की अधिक मात्रा का सेवन करने पर होने वाले नुकसान क्‍या हैं।

अधिक मात्रा में विटामिन ए का सेवन करने से अनिंद्रा, वजन घटना, सर्दी जुकाम, शुष्‍क त्‍वचा, थकान तनाव, दांतों का कमजोर होना, पेट की खराबी और दस्‍त जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं।

यदि आप विटामिन ए की कमी दूर करने के लिए विटामिन ए की गोली और कैप्‍सूल आदि का सेवन करना चाहते हैं तो पहले अपने डॉक्‍टर से सलाह लें।

स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी अधिक जानकारी प्राप्‍त करने के लिए आप हमारे Facebook Page को लाइक कर सकते हैं।

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required