शुतुरमुर्गासन योग के फायदे और विधि – Shuturmurgasana Yoga Benefits in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग करने की विधि और उसके लाभ - shuturmurg asan steps and benefits in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग करने की विधि और उसके लाभ - shuturmurg asan steps and benefits in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग करने की विधि आपके जीवन में नया अनुभव जोड़ सकती है। शुतुरमुर्गासन करने के फायदे न केवल आपके शारीरिक बल्कि मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को भी बेहतर बनाने में सहायक होते हैं। शुतुरमुर्गासन योग करने की स्थिति या मुद्रा शुतुरमुर्ग पक्षी के समान होती है इस कारण ही इस योग का नाम शुतुरमुर्गासन रखा गया। नियमित रूप से शुतुरमुर्गासन योग को करने के फायदे पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने, शारीरिक मांसपेशियों के दर्द को कम करने आदि में सहायक होते हैं। आज इस आर्टिकल में आप शुतुरमुर्गासन योग करने की विधि और फायदे संबंधी जानकारी प्राप्‍त करेगें।

शुतुरमुर्गासन योग क्या है – What is Shuturmurg Asan in Hindi

प्रमुख योगासनों में शुतुरमुर्गासन योग को शामिल किया जाता है। शुतुरमुर्गासन योग को ऑस्ट्रिच पोज (Ostrich Pose) के नाम से भी जाना जाता है। शुतुरमुर्गासन योग का यदि शाब्दिक अर्थ निकाला जाये तो इसका अर्थ शतुरमुर्ग के समान दिखाई देने वाली स्थिति या योग होता है। इस योग को करने से योग करने वाले व्‍यक्ति की स्थिति शुतुरमुर्ग के समान दिखाई देती है। शुतुरमुर्गासन योग करने के फायदे आपके कमर के नीचे के हिस्‍सों को मजबूत बनाने के साथ ही भुजाओं की ताकत को भी बढ़ाते हैं। आइए जाने ऑस्ट्रिच योगा पोज करने के महत्‍व को समझे।

(इसे भी पढ़ें – हार्ट अटैक से बचने के लिए योग)

शुतुरमुर्गासन योग करने का महत्‍व – Importance of ostrich yoga in Hindi

योग का हमारे दैनिक जीवन में विशेष महत्‍व होता है। आप भी अपने दैनिक व्‍यस्‍त जीवन में थोड़ा सा समय अपने शरीर और योग के लिए निकालें। क्‍योंकि 15 से 20 मिनिट का योग आपकी पूरी थकान को दूर करने के साथ ही शारीरिक और मानसिक रूप से लाभ पहुंचा सकता है। ऑस्ट्रिच योगा पोज भी आपके दैनिक जीवन में नया परिवर्तन ला सकता है। शुतुरमुर्गासन योग करने के फायदे आपकी मस्तिष्‍क कार्य क्षमता को बढ़ाने के साथ ही आपके यौन जीवन में सुधार ला सकता है। आइए जाने शतुरमुर्गासन योग करने के लिए तैयारी क्‍या है।

(इसे भी पढ़ें – लेग राईस एक्सरसाइज करने का तरीका और फायदे)

शुतुरमुर्गासन योग करने की तैयारी – Preparation of ostrich yoga Pose in Hindi

ऑस्ट्रिच योगा करने के लिए सुबह का समय सबसे अच्‍छा होता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि शुतुरमुर्गासन योग को केवल सुबह के समय ही किया जा सकता है। लेकिन इस योग को करने के लिए आपको कुछ तैयारी करने की आवश्‍यकता है। इसके अलावा कोई भी योग करने से पहले आपको इस बात का ध्‍यान रखना चाहिए कि योग हमेशा खाली पेट किये जाते हैं। इसलिए शुतुरमुर्गासन योग करने के लगभग 2 घंटे पहले तक आपको भोजन नहीं करना चाहिए।

ऑस्ट्रिच पोज करने के लिए तैयारी –                    

सबसे पहले आप ऐसे स्‍थान का चुनाव करें जहां कोलाहल या अन्‍य प्रकार के व्‍यवधान न हों। जैसे कि तेज आवाज, बच्‍चों का शोरगोल या अन्‍य प्रकार के पर्यावरणीय व्‍यवधान आदि। शुतुरमुर्गासन योग करने के लिए आपको 1 योगा मैट की आवश्‍यकता भी होती है। इसके अलावा आपको शुतुरमुर्गासन योग करने से पहले कुछ देर ध्‍यान करने की आवश्‍यकता है जिससे आपको ध्‍यान केंद्रित करने में सुविधा होगी।

(इसे भी पढ़ें – पाचन को मजबूत बनाने वाली एक्सरसाइज)

शुतुरमुर्गासन योग करने से पहले यह आसन करें – Shuturmurg Asan yoga se pahle ye aasan kare in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग स्‍वाभाविक रूप से आपके शारीरिक और मानसिक स्‍वासथ्‍य को बढ़ावा देता है। लेकिन यदि आप विगनर हैं तो आपको शतुरमुर्गासन योग करने में कुछ परेशानी आ सकती है। इस तरह की परेशानी से बचने के लिए आपको सावधानी से ऑस्ट्रिच पोज करना चाहिए। यदि आप पहले से ही योग कर रहे हैं तो शुतुरमुर्गासन योग को प्रभावी रूप से करने के लिए पहले कुछ और आसन करना चाहिए। शुतुरमुर्गासन योग करने से पहले किये जाने वाले योगासनों में वीरभद्रासन (Warrior Pose), गरुड़ासन (Eagle Pose), पश्चिमोत्‍तासन (Paschimottanasana) योग  और जानुशीर्षासन (Janusirsasana) योग करना फायदेमंद होता है। 

(इसे भी पढ़ें – एक पाद राजकपोतासन करने के फायदे)

शुतुरमुर्गासन योग करने का तरीका – Steps to do Shuturmurg Asan yoga in Hindi

ऑस्ट्रिच योगा पोज या शुतुरमुर्गासन योग करना बहुत ही आसान और प्रभावी है। अच्‍छी बात यह है कि इस योग को हर उम्र वर्ग के महिला, पुरुष और बच्‍चों द्वारा किया जा सकता है। यदि आप अच्‍छी तरह से शुतुरमुर्गासन योग को करना समझ लें तो आपको किसी अन्‍य ट्रेनर की आवश्‍यकता भी नहीं पड़ती है। लेकिन आपको सलाह दी जाती है कि किसी भी योग को करते समय किसी अनुभवी व्‍यक्ति का पास में होना आवश्‍यक है। इसके अलावा जब आप शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह स्‍वस्‍थ रहें तब ही इस प्रकार के योग को किया जाना चाहिए। क्‍योंकि योग ध्‍यान और गंभीरता के दौरान ही प्रभावी होते हैं। आइए जाने शुतुरमुर्गासन योग करने की विधि क्‍या है।

(इसे भी पढ़ें – लिंग बड़ा करने के लिए योग)

शुतुरमुर्गासन योग करने की विधि – Shuturmurg Asan yoga karne ki Vidhi in Hind

शुतुरमुर्गासन योग करने की विधि – Shuturmurg Asan yoga karne ki Vidhi in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग करने के लिए आप अनुभवी व्‍यक्ति या योगा प्रशिक्षक से सलाह लें। साथ ही ऑस्ट्रिच योगा पोज के स्‍टेप्‍स को समझें। शुतुरमुर्गासन योग करने के लिए आपको निम्‍न विधि या स्‍टेप्‍स का उपयोग करना चाहिए।

शुतुरमुर्गासन योग की स्‍टेप्‍स –

  • ऑस्ट्रिच पोज करने के लिए आप पहले एक योगा मैट लें और इसे समतल सतह पर बिछा लें। अब इस योगा मैट में आप सीधे खड़े हो जाएं।
  • इस स्थिति में आपके दोनों पैरों के बीच लगभग 2 फिट का अंतर होना चाहिए। इस स्थिति में आप तन कर खड़े रहें और आपके हाथ नीचे की तरफ सीधे सटे हुए होने चाहिए।
  • शुतुरमुर्गासन योग शुरु करने के लिए आप अपने दाएं पैर को घुटने 90 डिग्री तक मोड़ें। लेकिन ध्‍यान रखें इस स्थिति में आपका बांया पैर सीधा रहे और घुटना बिल्‍कुल भी न मुड़े।
  • इस स्थिति पर पहुंचने के बाद आप अपने कमर से ऊपर के हिस्‍से को नीचे की ओर झुकाएं। इस दौरान आप अपने सिर को भी स्‍वतंत्र रूप से नीचे की तरफ लटकने दें।
  • इसके बाद आप अपने दोनों हाथों को पीछे ले जाकर एक दूसरे की उंगलियां फंसा लें।
  • इस दौरान आप गहरी सांस लेते रहें और लगभग इस मुद्रा में 4 से 5 मिनिट तक रूकें।
  • इसके बाद आप धीरे-धीरे प्रारंभिक स्थिति में आएं।
  • इस तरह से आप सावधानी के साथ शुतुरमुर्गासन या ऑस्ट्रिच पोज को नियमित रूप से अपने पैर को बदलकर दोहराएं।

ऑस्ट्रिच पोज करने की दूसरी विधि – Other Methard for Ostrich Pose in Hindi

यदि आपको शुतुरमुर्गासन योग करने की ऊपर बताई गई विधि में किसी प्रकार की असुविधा हो रही है। ऐसी स्थिति में आप शुतुरमुर्गासन योग करने की दूसरी विधि भी अपना सकते हैं। हालांकि ऊपर बताई गई विधि अधिक सरल और सुविधाजनक है। आइए जाने शुतुरमुर्गासन योग करने की दूसरी विधि क्‍या है।

सामान्‍य रूप से इस योग को खुले मैदान में किया जाना अधिक सुविधाजन होता है। योग आसन शुतुरमुर्गासन करने के लिए आप सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। इसके बाद आप अपने सिर को नीचे झुकाएं और अपने हाथों को जमीन से लगाएं। इस स्थिति में धीरे-धीरे आप अपने सिर को जमीन से टिकाएं। इसके बाद आप अपने पैरों को घुटने से मोड़ें। इस स्थिति में आपकी कमर का हिस्‍सा पर्वत की तरह ऊपर उठा होना चाहिए। इस स्थिति में आपके पूरे शरीर में तनाव आता है जिससे मांसपेशियों को लाभ मिलता है।

ऑस्ट्रिच पोज बेनिफिट्स – Ostrich Pose Benefits in Hindi

स्‍वस्‍थ रहने और अपने शरीर को फिट रखने के लिए शुतुरमुर्गासन योग के फायदे बहुत अधिक होते हैं। शुतुरमुर्गासन योग करने के फायदे शरीर में होने वाले कई स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी परिवर्तनों को नियंत्रित कर सकते हैं। आइए विस्‍तार से जाने शतुरमुर्गासन योग के लाभ क्‍या हैं।

शुतुरमुर्गासन योग के फायदे - Benefits Of The Shuturmurg Asan yoga in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग और उसके फायदे – Shuturmurg Asan yoga Aur Uske Fayde in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग और उसके फायदे स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के साथ ही यौन समस्‍याओं को दूर करने के लिए होते हैं। शुतुरमुर्गासन योग के लाभ महिला और पुरुष दोनों के जननांगों और कमर से नीचे के हिस्‍से को स्‍वस्‍थ रखने में होते हैं। आइए विस्‍तार से जाने शुतुरमुर्गासन योग के फायदे और नुकसान क्‍या हैं।

शुतुरमुर्गासन योग के फायदे – Benefits Of The Shuturmurg Asan yoga in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग आसन हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद हैं। यह हमारे शरीर में होने वाली कई प्रकार की समस्या से हमें दूर रखता हैं। आइये इसके लाभों को विस्तार से जाते हैं।

शुतुरमुर्गासन योग पेट कम करे – Shuturmurg Asanas yoga Pet kam kare in Hindi

कुछ लोग अपने पेट को कम करने के लिए कई उपाय करते हैं। जबकि शुतुरमुर्गासन योग उनके लिए एक अच्‍छा विकल्‍प है। जैसा कि हम जाते हैं कि शुतुरमुर्गासन योग करने से चयापचय को बढ़ावा मिलता है। जिसके कारण हमारे पेट में जमा अतिरिक्‍त वसा या फैट का उपयोग ऊर्जा उत्‍पादन के लिए किया जाता है। परिणाम स्‍वरूप आपके पेट में जमा चर्बी धीरे-धीरे कम होने लगती है। यदि आप भी अपने पेट या तोंद को कम करना चाहते हैं तो नियमित रूप से शुतुरमुर्गासन योग को अपनाएं।

आंखों के लिए लाभदायक शुतुरमुर्गासन योग – Shuturmurg Asanas yoga for Eyes in Hindi

आंखों संबंधी समस्‍याओं के लिए शुतुरमुर्गासन योग फायदेमंद होता है। इस योग को करने के दौरान हमारा सिर और धड़ नीचे की ओर झुका होता है। जिसके कारण रक्‍त परिसंचरण को गति मिलती है जो कि आपके मस्तिष्‍क की तरफ अधिक होता है। इस स्थिति में आपके मस्तिष्‍क में ऑक्‍सीजन और अन्‍य पोषक तत्‍वों का अधिक परिवहन होता है। इस स्थिति में आपकी आंखों में भी रक्‍त प्रवाह बढ़ जाता है। यदि आप भी नियमित रूप से शतुरमुर्गासन योग करते हैं तो इसके फायदे आपको आंखों संबंधी कई समस्‍याओं से दूर रख सकते हैं।

पेट की गैस के लिए शुतुरमुर्गासन योग – Pet ki gas ke liye Shuturmurg Asanas yoga in Hindi

पाचन संबंधी समस्‍याओं के लिए शुतुरमुर्गासन योग बहुत ही फायेदमंद योग है। यदि आप पेट की गैस और अन्‍य पाचन संबंधी समस्याओं से परेशान हैं तो शुतुरमुर्गासन योग को करें। नियमित रूप से इस योग को करने से हमारी चयापचय प्रणाली को बढ़ावा मिलता है। जिससे पाचन संबंधी समस्‍याओं को कम करने में मदद मिलती है। आप भी अपने पेट को स्‍वसथ रखने के लिए शुतुरमुर्गासन योग का उपयोग कर सकते हैं।

शुतुरमुर्गासान योग है लिंग को मोटा करने का योग – Shuturmurgasana yog hai Ling Mota karne ka yoga in Hindi

जो लोग अपने लिंग को मोटा करना चाहते हैं उन्‍हें शुतुरमुर्गासन योग लाभ पहुंचा सकता है। इसके अलावा शुतुरमुर्गासन योग लिंग की कार्य क्षमता को भी बढ़ाने में सहायक होता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि शुतुरमुर्गासन योग करने से कमर के निचले हिस्‍से में रक्‍त प्रवाह को गति मिलती है। जो आपके लिंग को मोटा करने में सहायक होते हैं। आपके द्वारा लिंग मोटा करने वाली दवाएं भी लिंग क्षेत्र में रक्‍त प्रवाह को बढ़ाती हैं। लेकिन इन दवाओं के कुछ रासायनिक नुकसान भी हो सकता है। इसलिए आप अपने लिंग को मोटा करने के लिए शुतुरमुर्गासन योग को अपना सकते हैं।

शुतुरमुर्गासन योग के फायदे कमर दर्द में – Shuturmurg Asanas for Waist Pain in Hindi

जिन लोगों को कमर का दर्द और इससे संबंधित समस्‍या होती है उनके लिए शुतुरमुर्गासन योग लाभकारी होता है। क्‍योकि जानकारों का मानना है कि इस योग को नियमित करने से कमर के निचले हिस्‍से की मांसपेशियों को अधिक लाभ होता है। शतुरमुगासरन योग करने के दौरान पैरों और गर्दन में उचित तनाव होता है जिससे कमर दर्द के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है। आप भी अपनी दैनिक दिनचर्या में शामिल कर शुतुरमुर्गासन योग के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।   

शुतुरमुर्गासन योग योनि को टाइट करे – Shuturmurgasana Yoga Yoni ko Tight kare in Hindi

बहुत सी महिलाएं समय के साथ योनि ढ़ीली होने की समस्‍या से परेशान रहती हैं। लेकिन इस योग को करने से महिलाएं अपनी योनि को टाइट कर सकती हैं। जिससे उन्हें सेक्‍स करने में भरपूर आनंद प्राप्‍त होता है। योनि टाइट होने या छोटी होने से लिंग का योनि पर अधिक घर्षण होता है। जिससे महिला और पुरुष दोनों को अधिक यौन सुख प्राप्‍त होता है।

शुतुरमुर्गासन योग के लाभ शरीर को मजबूत करे – Shuturmurg Asanas for strong body in Hindi

जो लोग अधिक परिश्रम या मेहनत करते हैं उनके लिए शुतुरमुर्गासन योग के फायदे होते हैं। क्‍योंकि यह योग उनकी मांसपेशियों को मजबूत बनाने में सहायक होता है। नियमित रूप से शुतुरमुर्गासन योग करने से पैरों, भुजाओं, कमर और पेट आदि की मांसपेशियों को मजबूत करता है। जिससे आप अपने शरीर की ताकत को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा शुतुरमुर्गासन योग करने के फायदे शारीरिक संतुलन और सहनशक्ति को भी बढ़ाता है।

ऑस्ट्रिच पोज के फायदे यौन स्‍वास्‍थ्‍य के लिए – Ostrich Pose ke fayde Sexual Health ke liye in Hindi

शुतुरमुर्गासन योग महिलाओं और पुरुष दोनों के यौन स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने का सबसे अच्‍छा तरीका है। क्‍योंकि यह शारीरिक और मा‍नसिक दोनों प्रकार से लाभ पहुंचाता है। शुतुरमुर्गासन योग या ऑस्ट्रिच पोज करने से कामेच्‍छा में भी वृद्धि होती है। क्‍योंकि यह हमारे मस्तिष्‍क को स्‍वसथ रखने और कामेच्‍छा बढ़ाने वाले हार्मोन के उत्पादन को बढ़ाता है।

शुतुरमुर्गासन योग करने से पहले यह सावधानी रखें – Precautions to do Shuturmurg Asanas yoga in Hindi

ऑस्ट्रिच पोज या शुतुरमुर्गासन योग करना बहुत ही आसान होता है। लेकिन इस योग को करते समय आपको विशेष सावधानी रखनी चाहिए। क्‍योंकि गलत तरीके से करने पर योग के नुकसान भी हो सकते हैं। आइए जाने शुतुरमुर्गासन योग करते समय किन सावधानीयों का ध्‍यान रखना चाहिए।

  • जिन लोगों को घुटनों के दर्द की समस्‍या होती है उन्‍हें शुतुरमुर्गासन योग नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपको रीढ़ की हड्डी संबंधी समस्‍या है तब ऐसी स्थिति में शुतुरमुर्गासन योग करना आपको नुकसान पहुंचा सकता है।
  • चुंकि यह योग पीठ के दर्द को कम करने में सहायक है। लेकिन यदि आप गंभीर पीठ के दर्द से ग्रसित हैं तब इस योग को न करें।
  • हाई ब्‍लड प्रेशर वाले मरीज को शुतुरमुर्गासन योग करने से बचना चाहिए।
  • यदि आप किसी विशेष स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या से ग्रसित हैं तब इस योग को करने से पहले अपने डॉक्‍टर या स्‍वास्‍थ्‍य सलाहकार से संपर्क करना चाहिए।

शुतुरमुर्गासन योग के नुकसान – Shuturmurgasana yoga ke Nuksan in Hindi

योग हमेशा ही हमारे शरीर के स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। हालांकि किसी भी योग को करने के नुकसान नहीं होते हैं। लेकिन उचित लाभ प्राप्त करने के लिए आपको सभी प्रकार के योगों को सही तरीके से करना चाहिए। योग कभी भी नुकसान दायक नहीं होते हैं। हां ये आपको उस समय हानि पहुंचा सकते हैं जब आप इसे अधिक देर तक और सही तरीके से नहीं करते हैं।

और अधिक स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी जानकारी प्राप्‍त करने के लिए आप हमारे Facebook और twitter page को लाइक कर सकते हैं।

4.5/5

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required