रोहू मछली खाने के फायदे और नुकसान – Rohu machli khane ke fayde in Hindi

रोहू मछली खाने के फायदे और नुकसान – Rohu machli khane ke fayde in Hindi

रोहू मछली खाने के फायदे आपको हैरान कर सकते हैं। यह एक ऐसा खाद्य आहार है जो भारत के कुछ हिस्‍सों सहित दुनिया भर में बहुत ही लोकप्रिय है। अपने पौष्टिक गुणों के कारण ही रोहू मछली बंगाल, असम और भारत के अन्‍य तटीय क्षेत्रों का प्रमुख आहार है। रोहू मछली खाने के फायदे हृदय को स्‍वस्‍थ रखने, देखने की क्षमता बढ़ाने, रक्‍त वाहिकाओं को स्‍वस्‍थ रखने और त्‍वचा स्‍वास्‍थ को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। आज इस आर्टिकल में आप रोहू मछली खाने फायदे जानेगें जो आपके बेहतर स्‍वास्‍थ के लिए आवश्‍यक होते हैं।

1. रोहू मछली कहां पाई जाती है – Rohu Machli Kha pai jati hai in Hindi
2. रोहू मछली की पहचान – Rohu Machli ki pehchan in Hindi
3. रोहू मछली की तासीर – Rohu Machli ki taseer in Hindi
4. रोहू मछली के पोषक तत्‍व – Rohu machli ke Poshak Tatva in Hindi
5. रोहू मछली में कौन सा विटामिन होता है  – Rohu Fish me kon sa Vitamin hota hai in Hindi
6. रोहू मछली में प्रोटीन की मात्रा – Rohu Fish me Protine ki matra in Hindi
7. रोहू मछली खाने के स्‍वास्‍थ लाभ – Rohu machli khane ke swasth labh in Hindi

Table of Contents

रोहू मछली से संबंधित पूरी जानकारी : –

8. रोहू फिश करी बनाने की विधि – Rohu fish recipe in Hindi
9. रोहू मछली खाने के नुकसान – Rohu Machli Khane Ke Nuksan in Hindi

रोहू मछली कहां पाई जाती है – Rohu Machli Kha pai jati hai in Hindi

रोहू मछली का वैज्ञानिक नाम लेबियों रोहिता (Labeo rohita) है। लेकिन बहुत से लोगों को यह पता नहीं है कि रोहू मछली कहां पाई जाती है। यह मछली हमेशा मीठे पानी में पाई जाती है। इस मछली की बनावट किसी नाव के समान होती है जिसके कारण इसे तैरने में आसानी होती है।

रोहू मछली की पहचान – Rohu Machli ki pehchan in Hindi

रोहू मछली खाने के फायदे और नुकसान – Rohu machli khane ke fayde in Hindi

जो लोग मछलियों की पहचान रखते हैं वे देखते ही बता देते हैं कि कौन सी मछली है। लेकिन हर किसी को रोहू मछली की पहचान पता नहीं होती है। रोहू मछली का शरीर सामान्‍य रूप से आकार के अनुसार लंबा होता है इसकी पीठ पेट की अपेक्षा उभरी होती है। इसकी त्‍वया के ऊपर छिलके होते हैं। इसकी आंखें बड़ी होती है जबकि मुंह अन्‍य मछलियों की तुलना में छोटा होता है। आंखों का रंग भी हल्‍का लाल होता है। इसके पंख जो तैरने में सहायक होते हैं इनका रंग भी लाल या हल्‍का गुलाबी होता है। आज आप इस आर्टिकल में रोहू मछली खाने के फायदे और नुकसान जानेगें।

रोहू मछली की तासीर – Rohu Machli ki taseer in Hindi

पौष्टिक गुणों से भरपूर रोहू मछली खाने के फायदे स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को दूर करने में सहायक होते हैं। रोहू मछली की तासीर गर्म होती है इसलिए यह मानव शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाती है। आप भी यहा बताये गए फायदे प्राप्‍त करने के लिए रोहू मछली को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

रोहू मछली के पोषक तत्‍व – Rohu machli ke Poshak Tatva in Hindi

रोहू मछली सहित अन्‍य सभी मछलीयों में बहुत से पोषक तत्‍व मौजूद रहते हैं जो हमारे लिए बहुत ही लाभकारी होते हैं। रोहू मछली में पाये जाने वाले पोषक तत्‍वों में आयोडीन, सेलेनियम, जस्‍ता और पोटेशियम शामिल होते हैं। थॉयराइड ग्र‍ंथि के लिए आयोडीन बहुत ही महत्‍वपूर्ण है और सेलेनियम एंजाइम बनाता है जो हमें कैंसर से बचाने में मदद करते हैं। इसके अलावा रोहू मछली में विटामिन भी अच्‍छी मात्रा होते हैं जिनमें विटामिन ए और विटामिन डी शामिल हैं।

रोहू मछली में कौन सा विटामिन होता है  – Rohu Fish me kon sa Vitamin hota hai in Hindi

हम में से अधिकांश लोग अपने आहार में मछली का सेवन करते हैं। लेकिन क्‍या आप बता सकते हैं कि रोहू मछली में कौन सा विटामिन होता है। अगर आपको पता नहीं है तो कोई बात नहीं लेकिन आप विटामिन सी के फायदे तो जानते ही होगें। जी हां रोहू मछली में विटामिन C की अच्‍छी मात्रा होती है। यह हमारे शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए आवश्‍यक है। विशेष रूप से रोहू मछली में मौजूद विटामिन C हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होते हैं। आप भी रोहू मछली खाने के फायदे प्राप्‍त करने के लिए इसे अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – लहसुन के फायदे)

रोहू मछली में प्रोटीन की मात्रा – Rohu Fish me Protine ki matra in Hindi

अध्‍ययनों से पता चलता है कि रोहू मछली में प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है। हालांकि यह भी कहा जाता है कि समुद्री मछली में प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है जबकि रोहू नदी में मिलने वाली मछली है। लेकिन यह भी सत्‍य है कि नदी में मिलने वाली मछलियां भी प्रोटीन से भरपूर होती हैं।

इसलिए ही रोहू मछली खाने के रूप में उपयोग की जाती है जिसके फायदे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी होते हैं।

(इसे भी पढ़ें – रोजमेरी तेल के फायदे और नुकसान)

रोहू मछली खाने के स्‍वास्‍थ लाभ – Rohu machli khane ke swasth labh in Hindi

रोहू मछली खाने के फायदे और नुकसान – Rohu machli khane ke fayde in Hindi

अध्‍ययनों से पता चलता है कि मानव स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने के लिए मछली का सेवन एक अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है। चूंकि भारत जैसे देशों में मैकेरल, साल्मन और टूना फिश जैसी मछलियां नहीं मिलती हैं। इसलिए रोहू मछली एक अच्‍छे विकल्‍प के रूप में उपयोग की जा सकती है। क्‍योंकि रोहू मछली में भी ओमेगा-3 फैटी एसिड की उच्‍च मात्रा होती है।

आइए जाने रोहू मछली खाने के स्‍वास्‍थ लाभ क्‍या हैं।

(इसे भी पढ़ें – भृंगराज तेल के फायदे और नुकसान)

रोहू मछली है दिल के लिए फायदेमंद – Rohu Machli Hai Dil Ke Liye Faydemand in Hindi

आपके हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए रोहू मछली खाने के फायदे होते हैं। इसलिए यह कहना कि रोहू मछली है दिल के लिए फायदेमंद गलत नहीं है। यह कोई एक संयोग नहीं है बल्कि इसमें मौजूद पोषक तत्‍वों के कारण ही यह हमें हृदय रोगों से बचा सकती है। समुद्री भोजन या रोहू मछली मे संतृप्‍त वसा की मात्रा बहुत कम होती है जबकि ओमेगा-3 फैटी ऐसिड उच्‍च मात्रा होता है। ये दोनों ही कारण हृदय स्‍वास्‍थ को बढ़ावा देने में सहायक होते हैं। क्‍योंकि यह शरीर में मौजूद कोलेस्‍ट्रॉल को कम करता है। जिससे रक्‍त वाहिकाओं में रक्‍त परिसंचरण को बढ़ावा मिलता है। एक अध्‍ययन के अनुसार लोगों को सलाह दी जाती है कि कम से कम सप्‍ताह में 1 बार रोहू मछली का सेवन करना चाहिए।

ऐसा करने से आप अपनी हृदय संबंधी बीमारियों से बच सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – फेफड़ों के लिए स्‍वस्‍थ्‍य आहार)

रोहू मछली खाने से मिलती है ऊर्जा – Rohu Machli Khane se Milti Hai Energy in Hindi

जैसा कि हम ऊपर जान चुके हैं कि रोहू मछली में पोषक तत्‍वों की उच्‍च मात्रा होती है। इसके अलावा इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड भी होता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। इसके अलावा मछली में स्‍वस्‍थ वसा भी होता है जो हमारे शरीर को अतिरिक्‍त ऊर्जा दिलाने में भी सहायक होता है। यह स्‍वस्‍थ वसा हमारे शरीर में मौजूद हानिकारक कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने और अच्‍छे कोलेस्‍ट्रॉल को बढ़ाने में भी सहायक होते हैं। जिससे आपके शरीर को काम करने की पर्याप्‍त शक्ति और ऊर्जा मिलती है।

इस तरह से हम कह सकते कि रोहू मछली खाने के फायदे हमें शारीरिक ऊर्जा दिलाने में सहायक होते हैं।

(इसे भी पढ़ें – यौनशक्ति बढ़ाने के उपाय)

रोहू मछली खाने के लाभ रक्‍त परिसंचरण के लिए – Rohu Machli Khane Ke Labh Raktparisanchran Ke Liye in Hindi

यदि आप अपने शरीर में स्‍वस्‍थ हृदय गति चाहते हैं तो रोहू मछली को अपने आहार में शामिल करें। क्‍योंकि रोहू मछली खाने के फायदे रक्‍त परिसंचरण को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि रोहू मछली में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड शरीर में इकोसिनाइड्स के उत्‍पादन को रोकने में सहायक होता है। यह एक ऐसा हार्मोन है जो रक्‍त के थक्‍के और सूजन जैसी समस्‍याओं को बढ़ा सकता है। इस तरह से आप अपनी रक्‍त वाहिकाओं को स्‍वस्‍थ रखने के लिए रोहू मछली को अपने नियमित आहार में शामिल कर लाभ ले सकते हैं। रोहू मछली का उपयोग साप्‍ताहिक आहार के लिए सबसे अच्‍छा विकल्‍प है। अध्‍ययनों से पुष्टि हो चुकी है कि रोहू मछली खाने के लाभ रक्‍त परिसंचरण के लिए होते हैं।

(इसे भी पढ़ें – सफेद मूसली के फायदे महिलाओं के लिए)

रोहू मछली का सेवन संयुक्‍त दर्द के लिए – Rohu Machli Ka sevabn Joint Pain Ke Liye in Hindi

नियमित आहार के रूप में रोहू मछली का उपयोग आपको संधिशोथ के लक्षणों से बचा सकता है। संधिशोथ एक ऐसी समस्‍या है जिसमे शरीर के सभी जोड़ों में सूजन और दर्द की समस्‍या होती है। हाल ही में किये गए एक अध्‍ययन से पता चलता है कि रोहू मछली में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड ऑस्टियोआर्थराइटिस (osteoarthritis) के लक्षणों को कम कर सकता है। बहुत से स्‍वास्‍थ सलाहकार इस प्रकार की समस्‍याओं से बचने के लिए मछली को अपने नियमित आहार में शामिल करने की सलाह देते हैं। इस तरह से आप भी भविष्‍य में होने वाली ऐसी किसी समस्‍या से बचने के लिए रोहू मछली खाने के फायदे प्राप्‍त कर सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – गठिया रोग के घरेलू उपचार)

रोहू मछली का प्रयोग कैंसर से बचाता है – Rohu Machli ka pryog Cancer se bachaye in Hindi

आप अपने नियमित या साप्‍ताहिक आहार में रोहू मछली को खाने के रूप में शामिल कर सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि रोहू मछली का प्रयोग कैंसर से बचाता है। कैंसर के लिए रोहू मछली के फायदे इसलिए हैं क्‍योंकि इसमें एंटीऑक्‍टीडेंट की उच्‍च मात्रा होती है। ये एंटीऑक्‍सीडेंट कैंसर कोशिकाओं और ट्यूमर के विकास को रोकने में प्रभावी होते हैं। इस तरह से रोहू मछली खाने के फायदे आपको कैंसर के प्रभाव और लक्षणों से बचा सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – गले का कैंसर, कारण लक्षण और बचाव)

रोहू मछली खाने के फायदे आंखों के लिए – Rohu Machli Khane Ke Fayde Aankho Ke Liye in Hindi

आप अपनी आंखों को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए नियमित आहार में सभी प्रकार की मछलियों को शामिल किया जा सकता है। लेकिन रोहू मछली में मौजूद वसा या मछली का तेल आंखों के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। यह आपकी आंखों को स्‍वस्‍थ रखने और देखने की क्षमता में वृद्धि कर सकता है। एक अध्‍ययन के अनुसार सलाह दी जाती है कि ओमेगा-3 फैटी एसिड उम्र बढ़ने के साथ धब्‍बेदार अध: पतन (macular degeneration) से ग्रसित लोगों के लिए फायदेमंद होता है। यह उनकी आंखों की रोशनी को बचाने में मदद करता है। धब्‍बेदार अध: पतन एक ऐसी स्थिति है जिसके कारण रेटिना पतित हो जाता है और आंखों की रोशनी धुंधली हो जाती है। रोहू और अन्‍य मछलियों में रेटिनॉल भी होता है जो विटामिन ए का एक रूप है।

यह विटामिन विशेष रूप से रात की दृष्टि को बढ़ाने में सहायक होते हैं।

(इसे भी पढ़ें – कान दर्द का घरेलू उपचार)

रोहू मछली खाने के लाभ श्वसन समस्‍याओं में – Rohu Machli Khane Ke Labh Swasan Samasya Me in Hindi

कई अध्‍ययनों से पता चलता है कि रोहू मछली का सेवन हमारे फेफड़ों को स्‍वस्‍थ रखने में सहायक है। नियमित रूप से उपभोग करने पर यह अस्‍थमा के लक्षणों को कम करने में सहायक होता है। आप अपने फेफड़ों को स्‍वस्‍थ रखने के लिए नियमित आहार में मछलियों को शामिल लाभ ले सकते हैं। अध्‍ययन यह भी बताते हैं कि जो लोग नियमित रूप से मछलियां खाते हैं उनमें अन्‍य लोगों की तुलना में फेफड़े संबंधी समस्‍याओं के होने की संभावना कम होती है।

रोहू फिश बेनिफिट्स फॉर स्किन – Rohu Fish Benefits for Skin in Hindi

ओमेगा-3 फैटी एसिड त्‍वचा के लिए बहुत ही उपयोगी होता है। यह त्‍वचा को सूर्य से निकलने वाली परावैगनी किरणों के प्रभाव से बचाता है। इसलिए भी अध्‍ययन कर्ता भी मानते हैं कि रोहू फिश बेनिफिट्स फॉर स्किन। इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन और अन्‍य पोषक तत्‍व त्‍वचा को एक्जिमा और सारायसिस के लक्षणों को भी कम करने में सहायक होते हैं। रोहू मछली प्रोटीन का भी एक बड़ा स्रोत है जो कोलेजन का प्रमुख घटक माना जाता है। यह घटक त्‍वचा को लचीला और स्‍वस्‍थ रखने में सहायक होता है। आप भी अपनी त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए अपने साप्‍ताहिक आहार में रोहू मछली को शामिल कर फायदे प्राप्त कर सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – स्किन एलर्जी के घरेलू उपाय)

रोहू मछली के औषधीय गुण आंत्र रोगों के लिए – Rohu Machli Ke Aushadhiya gun Intestinal diseases Ke Liye in Hindi

जानकारों के अनुसार रोहू मछली के औषधीय गुण आंत्र रोगों के लिए फायदेमंद होते हैं। अध्‍ययन बताते हैं कि मछली के तेल का उपभोग हमारे जननांगों के लिए अच्‍छा होता है। मछली या मछली के तेल को आहार में शामिल करने से क्रोन की बीमारी और अल्‍सरेटिव कोलाइटिस जैसी बीमारियों से बचा जा सकता है। इसके अलावा रोहू मछली का नियमित सेवन आंतों की सूजन जैसी गंभीर समस्‍या से भी बचा सकता है। रोहू मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड की मौजूदगी के कारण ही स्‍वास्‍थ सलाहकार इसका सेवन करने की सलाह देते हैं क्‍योंकि यह आंत्र रोग के विकास और सूजन को कम करने में सहायक है।

नियमित आहार में शामिल कर आप भी रोहू मछली खाने के फायदे प्राप्‍त कर सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – शतावरी के फायदे और नुकसान हिंदी में)

रोहू मछली के गुण दिमाग तेज करे – Rohu Machli Ke gun Dimag Tej Kare in Hindi

ऐसा माना जाता है कि मावन मस्तिष्‍क का 60 प्रतिशत हिस्‍सा वसा होता है जिसमें ओमेगा-3 भी शामिल है। ऐसा माना जाता है कि रोहू मछली के गुण दिमाग तेज करे या करने में मदद करते हैं।अध्‍ययनों से पता चलता है कि शायद इसी कारण से जो लोग समुद्री भोजन का अधिक सेवन करते हैं उनमें मनोभृंश और स्‍मृति हानि जैसी समस्‍याओं की संभावना बहुत कम होती है। नियमित रूप से मछली का सेवन करने वाले बच्‍चों में एकाग्रता, पढ़ने का कौशल, याद रखने की क्षमता आदि उच्‍च होती है।

आप भी अपने बच्‍चों के मानसिक विकास के लिए रोहू मछली को उनके नियमित आहार में शामिल कर सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – कटहल बीज के फायदे और नुकसान)

रोहू मछली का इस्‍तेमाल रक्‍तचाप कम करता है – Rohu Machli ka istemal Raktchap Kam kare in Hindi

यदि आप उच्‍च रक्‍तचाप के रोगी हैं तो रोहू मछली का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि मछली के तेल में मौजूद पोषक तत्‍व रक्‍त चाप को कम करने में सहायक होते हैं। उच्‍च रक्‍तचाप के लक्षणों को कम करने के लिए रोहू मछली एक अच्‍छा विकल्‍प है जिसे आप अपने साप्‍ताहिक आहार में शामिल कर लाभ ले सकते हैं। स्‍पष्‍ट है कि रोहू मछली का इस्‍तेमाल रक्‍तचाप को कम करता है। इस तरह से रोहू मछली या इसका तेल खाने के फायदे स्‍वस्‍थ्‍य शरीर के लिए होते हैं।

(इसे भी पढ़ें – शरीर का तापमान बढ़ाने के उपाय)

रोहू मछली का उपयोग वजन कम करे – Rohu Machli Ka Upyog Bajan Kam Kare in Hindi

यदि आप अपने वजन को कम करने का प्रयास कर रहे हैं तो रोहू मछली को भी इन प्रयासों में शामिल करें। रोहू मछली खाने के फायदे शरीर में मौजूद अतिरिक्‍त वसा को कम करने में होते हैं। जिससे मोटापे को कम करने में मदद मिल सकती है।

जो लोग मोटे हैं वे अपने डिनर और लंच में रोहू मछली का सेवन कर सकते हैं।

(इसे भी पढ़ें – जानिये मोटापे का कारण और कम करने के उपाय)

रोहू मछली के फायदे गर्भावस्‍था में – Rohu Machli Ke Fayde Garbhavastha Me in Hindi

ऐसा माना जाता है कि गर्भावस्‍था के दौरान मछली का सेवन बहुत ही फायदेमंद होता है। यह न केवल महिला के स्‍वास्‍थ्य को बल्कि भ्रूण के उचित विकास में भी सहायक होता है। मछलियों में ओमेगा-3 फैटी एसिड की उपस्थिति बच्‍चे के मस्तिष्‍क विकास को बढ़ावा देती है। इसके अलावा गर्भावस्‍था के दौरान रोहू मछली का सेवन भ्रूण को पर्याप्‍त रक्‍त की आपूर्ति कराने में भी मदद करता है।

इस तरह से रोहू मछली भ्रूण के पर्याप्‍त मात्रा में पोषक तत्‍व उपलब्‍ध कराती है जिससे बच्‍च स्‍वस्‍थ रहता है।

(इसे भी पढ़ें – अदरक के फायदे, औषधीय गुण और उपयोग)

रोहू फिश करी बनाने की विधि – Rohu fish recipe in Hindi

हमारे देश में विभिन्‍न प्रकार के व्‍यंजन बनाये जाते हैं। बहुत से लोगों को रोहू मछली का सेवन करना भी बहुत ही पसंद आता है। आज हम यहां रोहू फिश करी बनाने विधि जानेगें। आइए जाने रोहू मछली की करी बनाने के लिए आपको क्‍या सामग्री चाहिए।

आपको चाहिए :

  • 500 ग्राम रोहू मछली
  • 1 छोटा चम्‍मच नमक
  • 1 छोटा चम्‍मच हल्‍दी
  • लाल मिर्च पाउडर 1 छोटा चम्‍मच
  • सरसों का तेल 1 बड़ा चम्‍मच

रोहू फिश करी बनाने के लिए तैयारी :

आप प्‍याज को पीस कर लगभग 1 कप पेस्‍ट तैयार करें इसके साथ ही 1 कप टमाटर का पेस्‍ट भी। इसके अलावा अदरक और लहसुन के 2 छोटे चम्‍मच पेस्‍ट निकालें। धनियां बारीक कटी लगभग 1 कप, 1 छोटा चम्‍मच नींबू का रस, 1 बड़ा चम्‍मच खड़ा मसाला, 1 छोटा चम्‍मच में जीरा पाउडर, धनिया पाउडर और गरम मसाला आदि की आवश्‍यकता होगी।

रोहू फिश करी बनाने की विधि :

मछली को अच्‍छी तरह से पानी में धो लें और फिर इसमें नमक, हल्‍दी, लाल मिर्च और 1 छोटा चम्‍मच तेल डालकर लगभग 15 मिनिट के लिए छोड़ दें। फिर एक कढ़ाई में 3 से 4 छोटे चम्‍मच तेल डालकर गर्म करें। जब तेल अच्‍छी तरह से गर्म हो जाए तब 1-1 करके मछली के पीस को तेल में छोड़ दें और 10 मिनिट तक पकने दें। ऐसा ही आप इन्‍हें पलटकर करें। इसके बाद आप इन्‍हें निकालकर एक प्‍लेट में रख लें।

अब कढ़ाई में 2 छोटे चम्‍मच सरसों का तेल डालें और गर्म होने के बाद खड़ा मसाला छोड़ दें। कुछ देर के बाद 1 चम्‍मच अदरक और लहसुन के पेस्‍ट को मिलाकर भूने और फिर इसमें प्‍याज के पेस्‍ट को मिलाएं जिसे भूरा होने तक भूने। अब इसमें 1 चम्‍मच लाल मिर्च पाउडर डालें और साथ में अन्‍य सभी मसालों को भी डालें। फिर इसमें टमाटर के पेस्‍ट को डालें और इसके पानी को खत्‍म होने तक पकाते रहें। इसके बाद कढ़ाई को ढक दें। लगभग 10 मिनिट के बाद आप इसमें धनिया पत्ती और नींबू के रस को मिलाएं। अब कढ़ाई में 1 कप पानी मिलाएं और 10 मिनिट तक पकाएं। आपकी रोहू फिश करी बनकर तैयार है।

रोहू मछली खाने के नुकसान – Rohu Machli Khane Ke Nuksan in Hindi

अपने पोषक तत्‍वों की उच्‍च मात्रा के कारण रोहू मछली का सेवन स्‍वास्‍थ के लिए बहुत ही अच्‍छा होता है। लेकिन यह भी स्‍पष्‍ट है कि अधिक मात्रा में सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है। हालांकि रोहू मछली के नुकसानों के बारे में कोई स्‍पष्‍ट जानकारी नहीं है। फिर भी सलाह दी जाती है कि अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से बचें।

  • जो लोग किसी विशेष प्रकार की दवाओं का सेवन कर रहे हैं उन्‍हें रोहू मछली का सेवन करने से पहले अपने डॉक्‍टर से सलाह लेना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में सेवन करने से कुछ लोगों को उल्‍टी, मतली या चक्‍कर आने की संभावना हो सकती है।
  • मछली का सेवन करने के बाद दूध या डेयरी उत्‍पादों का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने पर त्‍वचा में सफेद दाग और धब्‍बे आ सकते हैं।
  • अधिक मात्रा में रोहू मछली का सेवन करने से सांस संबंधी समस्‍याएं, दस्‍त और नाक से खून आना आदि समस्याएं हो सकती हैं।

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required